Moneycontrol » समाचार » राजनीति

जारी है महाराष्ट्र में महासंग्राम, शिवसेना के विधायक होटल में शिफ्ट

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच तनातनी जारी है।
अपडेटेड Nov 08, 2019 पर 09:43  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच तनातनी जारी है। यहां भी कर्नाटक के नाटक की झलक देखने को मिल रही है। आज मातोश्री में शिवसेना के विधायक दल की बैठक हुई जिसके बाद सभी विधायकों को फाइव स्टार होटल में शिफ्ट कर दिया गया है। इधर बीजेपी के नेताओं ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी से मुलाकात की। बीजेपी का कहना है कि उन्होंने कानूनी पेंच को लेकर गवर्नर से चर्चा की।


महाराष्ट्र BJP अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि स्पष्ट जनादेश के आधार पर अब तक सरकार बननी चाहिए थी। वो जल्दी बने ये नागरिकों की इच्छा है। ये बनने में समय जा रहा है। आगे क्या हो इसकी लीगल चर्चा करने की दृष्टि से हम गवर्नर से मिले। आगे क्या हो इसकी कानूनी चर्चा हुई। इसके आधार पर बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व आगे क्या करना है इसकी रणनीति तय करेगा।


इधर शिवसेना के नेता संजय राउत ने एक बार फिर साफ कर दिया है कि महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री शिवसेना का ही बनेगा। राउत ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी बहुमत नहीं जुटा पा रही है। वो जनता के ऊपर राष्ट्रपति शासन थोपना चाहती है।


महाराष्ट्र में कोई भी पार्टी अगर गवर्नर के सामने सरकार बनाने का प्रस्ताव नहीं पेश करती है तो उस सूरत में क्या होगा। इस पर सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट विकास सिंह ने बताया कि इस स्थिति में गवर्नर सबसे बड़ी पार्टी को बुलाएंगे। पार्टी को फ्लोर पर बहुमत साबित करने का वक्त मिलेगा। इसमें वक्त की सीमा नहीं होगी ये गवर्नर के विवेक पर निर्भर करेगा। यदि फ्लोर टेस्ट में NCP अनुपस्थित रहती है तो BJP की अल्पमत की सरकार बन जाएगी। BJP बहुमत साबित नहीं कर पाई तो दोबारा चुनाव होगा। दोबारा चुनाव होने में कम से कम 1 साल का वक्त लगेगा। इस स्थिति में 6-6 महीने के लिए दो बार राष्ट्रपति शासन लग सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।