Moneycontrol » समाचार » राजनीति

26 साल पुरानी दुश्मनी भुलाकर एक मंच पर आए माया-मुलायम

प्रकाशित Fri, 19, 2019 पर 12:45  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने 1995 के गेस्ट हाउस कांड के बाद शुक्रवार को पहली बार मुलायम सिंह यादव के साथ मंच साझा किया। मायावती शुक्रवार को मुलायम के लिए वोट मांगने के लिए मैनपुरी पहुंची थीं. 


1995 में लखनऊ के वीआईपी गेस्ट हाउस में मायावती के साथ हुई बदसलूकी के बाद समाजवादी पार्टी और बहुजना समाजवादी पार्टी में कड़वाहट आ गई थी। उसके बाद से मायावती और मुलायम सिंह में कभी बातचीत नहीं हुई, लेकिन लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन बनाकर एक साथ चुनाव लड़ने का ऐलान किया। जिसके बाद आज मैनपुरी में होने वाली रैली में मायावती और मुलायम पहली बार साथ दिखे।


यहां मंच पर मुलायम पहले भाषण देने आए। रैली को संबोधित करते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि बहुत दिनों के बाद वौ और मायावतीजी एक मंच पर हैं। यह बहुत खुशी की बात है। उन्होंने कहा कि हमें एक मंच पर रहना होगा। उन्होंने कहा कि मैनपुरी से वो बहुत बार चुनकर संसद गए हैं. यह उनका घर है. अब आखिरी बार जनता के कहने से वो फिर लड़ रहे हैं.


मुलायम ने कहा कि मायावती ने उनका वक्त वक्त पर साथ दिया है और इसके लिए वो उनके एहसानमंद हैं।


मायावती ने यहां अपने भाषण में कहा कि लोग पूछते हैं कि उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथ ऐसा इतिहास रहने के बावजूद गठबंधन क्यों किया है, कभी कभी राष्ट्र की भलाई के लिए ऐसे कड़े फैसले लेने पड़ते हैं।