Moneycontrol » समाचार » राजनीति

मन की बात: लद्दाख में आंख उठाकर देखने वालों को मिला करारा जवाब- पीएम मोदी

संकट चाहे कितना भी बड़ा हो भारत के संस्कार विश्वास देते हैं। भारत ने दुनियाभर की मदद की है
अपडेटेड Jun 29, 2020 पर 11:51  |  स्रोत : Moneycontrol.com

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रविवार को रेडियो पर मन की बात कार्यक्रम में देशवासियों को संबोधित किया।  उन्होंने कहा कि ये साल कब बितेगा? अब लोगों में एक आम प्रश्न बन गया है। लोग यह चाहते हैं कि जल्द से जल्द ये साल बीत जाए। पीएम मोदी ने कहा कि मुश्किलें आती हैं संकट आते हैं लेकिन सवाल यही है कि क्या इन आपदाओं की वजह से हमें साल 2020 को खराब मान लेना चाहिए? मेरे प्यारे देश वासियों बिलकुल नहीं।एक साल में एक चुनौती आए या पचास चुनौतियां। नंबर कम ज्यादा हो जाने से वो साल खराब नहीं हो जाता। 


6-7 महीना पहले, ये हम कहां जानते थे कि कोरोना जैसा संकट आएगा और इसके खिलाफ ये लड़ाई लंबी चलेगी। ये संकट तो बना ही हुआ है, ऊपर से देश में नई चुनौतियां सामने आ रही हैं। कुछ दिन पहले देश में Cyclone Amphan आया तो पश्चिम में Cyclone Nisarg आया। हमारे देश के कई राज्य टिड्डी दलों से परेशआन है। कुछ जगह तो भूकंप भी आ रहे हैं। इस बीच हमारे पड़ोसी देश जो कर रहे हैं, उन चुनौतियों से भी देश निपट रहा है। 


भारत ने हमेशा संकटों को, सफलता की सीढ़ियों में बदला है। लिहाजा हमें ऐसी भावनाओं के साथ आगे बढ़ने की जरूरत है। 130 करोड़ आबादी वाला देश इसी साल नए कीर्तिमान बनाएगा। देश नए लक्ष्य को हासिल करेगा। नई उड़ान भरेगा, नई ऊंचाइयों को छुएगा।


कृषि सेक्टर में बहुत सारी चीजें दशकों से लॉकडाउन में फंसी थी। इस सेक्टर को भी अब अनलॉक कर दिया गया है। इससे जहां एक तरफ किसानों को अपनी फसल कहीं भी किसी को भी बेचने की आजादी मिली है। वहीं दूसरी तरफ उन्हें अधिक लोन मिलना सुनिश्चित हुआ है


भारत का इतिहास ही आपदाओं और चुनौतियों पर जीत हासिल कर और ज्यादा निखरकर निकलने का कर रहा है। भारत के पास जब भी संकट आया है, भारत हमेशा उन चुनौतियों से निपटकर बेहतर तरीके से बाहर आया है।   


चीन से विवाद के मामले में पीएम मोदी ने कहा कि लद्दाख में भारत की जमीन पर, आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला है। भारत दोस्ती निभाना जानता है, तो आंख में आंख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है। हमारे वीर सैनिकों ने दिखा दिया कि वो कभी भी भारत मां के गौरव पर आंच नहीं आने देंगे। उन्होंने आगे कहा कि हमारे जो वीर जवान शहीद हुए हैं उनके शौर्य को पूरा देश नमन कर रहा है। पूरा देश उनका कृतज्ञ है, उनके सामने नतमस्तक है। अपने वीर -सपूतों के बलिदान पर उनके परिजनों में जो गर्व की भावना है देश के लिए जो जज़्बा है, यही तो देश की ताकत है।


कोई भी मिशन Pepples Participation यानी लोगों की हिस्सेदारी के बगैर पूरा नहीं हो सकता। इसलिए आत्मनिर्भर भारत की तरफ एक देशवासी के तौर पर हमें संकल्प, समर्पण और सहयोग की जरूरत है। आप लोकल खरीदेंगे। लोकल के लिए वोकल (Vocal) होंगे, तो यह भी एक प्रकार की देश सेवा है।


पीएम मोदी ने साफ तौर पर जता दिया है कि भारत का लक्ष्य आत्म निर्भर भारत बनाना है। भारत की पंरपरा भरोसा, मित्रता है। भारत का भाव बंधुता है। हम इन्हीं आदर्शों के साथ आगे बढ़ते रहेंगे।


लॉकडाउन से ज्यादा सतर्कता अब अनलॉक में करने की जरूरत है। आप सावधान रहेंगे, तभी कोरोना से बच पाएंगे। आपको हमेशा मास्क पहनना है और 2 गज की दूरी बनाए रखनी है। जिससे हम कोरोना से बच सकें।


अनलॉक के दौर से बहुत सी चीजें अनलॉक हो रही हैं। कई सालों से हमारा माइनिंग सेक्टर (Mining Sector) लॉकडाउन था। Commerical Auction को मंजूरी देने के एक फैसले को पूरी तरह से बदल दिया गया है। Space Sector में काफी सुधार किया गया है। इससे आत्मनिर्भर भारत के अभियान को एक गति मिलेगी।


हमारी युवा पीढ़ी के लिए भी हमारे Start-Ups के लिए भी एक नया आवसर आया है। हम भारत के पारंपरिक Indore Games नए कलेवर में पेश कर सकते हैं। इससे सप्लाई करने वाले Start-Ups बहुत Popular  हो जाएंगे। 


पीएम मोदी ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि आज पूरा देश उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है। जब देश नाजुक दौर से गुजर रहा था, तब राव ने देश की कमान संभाली थी। जब हम पीवी नरसिम्हा राव की बात करते हैं तो जाहिर है कि एक राजनेता के रूप में उनकी छवि उभरती है। लेकिन सच्चाई यह है कि वो कई भाषाओं के जानकार थे। वो भारत की भाषाओं के अलावा विदेशी भाषाएं भी बोल लेते थे।


पीएम मोदी ने देशवासियों से अपील की है कि राव जी के जन्म शताब्दी वर्ष में आप सभी लोग, उनके जीवन, विचारों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानने की कोशिश करें। मैं एक फिर से उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।