रोजगार को लेकर सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार: प्रधानमंत्री -
Moneycontrol » समाचार » राजनीति

रोजगार को लेकर सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार: प्रधानमंत्री

प्रकाशित Mon, 13, 2018 पर 08:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एएनआई को दिए इंटरव्यू में विपक्ष के एक-एक आरोपों का जवाब दिया है। उन्होंने असम में एनआरसी से लेकर बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन तक पर विपक्ष को आड़े हाथों लिया। पीएम मोदी ने साफ किया कि एनआरसी से भारत के एक भी नागरिक को देश नहीं छोड़ना होगा। यही नहीं पीएम ने राहुल गांधी के गले लगने पर भी तंज कसा। साथ ही जीएसटी को लेकर विपक्ष पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया।


गब्बर सिंह टैक्स को लेकर विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जहां तक बात गब्बर सिंह टैक्स की है, डकैतों के बारे में वो ही सोचते हैं जो अपने आस-पास सिर्फ डकैतों को देखते हैं। क्या कभी उन्होंने सोचा कि आखिर लोगों ने जीएसटी को पसंद क्यों किया? कांग्रेस अध्यक्ष ने संसद में सूरत के बारे में जिक्र किया था। उन्होंने गुजरात चुनावों के समय जीएसटी के खिलाफ लोगों को भड़काने की पूरी कोशिश की थी, फिर क्यों जनता ने उन्हें नकार दिया?


वहीं एनआरसी को लेकर विपक्ष के सवालों का जवाब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया। उन्होंने कहा कि जिन लोगों का खुद पर से भरोसा उठ गया है, जिन्हें जनता का समर्थन नहीं मिलने का डर है, जिन्हें संस्थाओं पर भरोसा नहीं है वो सिविल वॉर, ब्लडबाथ, देश के टुकड़े-टुकड़े जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। पीएम मोदी ने आगे कहा कि वो लोगों को आश्वस्त करते हैं कि भारत के किसी भी नागरिक को देश नहीं छोड़ना पड़ेगा।


प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी निशाना साधा। उन्होंने राहुल के संसद में गले लगने पर भी निशाना साधा, उन्होंने कहा कि ये आपको तय करना है कि वो बचकानी हरकत थी या नहीं। और अगर आप किसी फैसले पर नहीं पहुंच पा रहे हैं तो आंख मिचकाने को देख लें और आपको जवाब मिल जाएगा। महागठबंधन पर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुटकी ली। उन्होंने कहा महागठबंधन के असली चरित्र को समझना होगा। महागठबंधन की कोई विचारधारा नहीं है बल्कि ये खुद को जिंदा रखने की एक कोशिश है। महागठबंधन वंश को बचाने के लिए है विकास बढ़ाने के लिए नहीं।


वहीं नौकरी के मुददे को लेकर विपक्ष के सवालों का भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस इंटरव्यू में जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि लोगों को नौकरियां मिल रही हैं। ईपीएफ में 45 लाख नए नौकरी करने वालों का रजिस्ट्रेशन हुआ। इसके अलावा 5.68 लाख लोग पिछले 9 महीने में नई पेंशन स्कीम से जुड़े। कुलमिलाकर पिछले एक साल में 1 करोड़ रोजगार पैदा किए। इसलिए जो लोग सरकार पर रोजगार को लेकर सवाल उठा रहे हैं वो भ्रम फैला रहे हैं।


पीएम मोदी ने युवाओं को 1 करोड़ नौकरी देने का वादा किया था जिस पर कांग्रेस ने हमला किया। कांग्रेस नेता पी एल पूनिया ने कहा कि पीएम ने रोजगार के आंक़ड़ों पर झूठ बोला है। 1 करोड़ लोगों को नौकरी देने वाले बयान पर प्रधानमंत्री जहां कांग्रेस के निशाने पर हैं, वहीं उनके अपने सहयोगी शिवसेना ने भी सवाल खड़े कर दिए हैं। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि नौकरी पाए हुए 1 लाख लोगों को सामने आकर बयान देना चाहिए।


कांग्रेस नेता पी एल पूनिया ने पीएम मोदी के एनआरसी पर दिए बयान पर निशाना साधा। पी एल पूनिया ने कहा कि उन्हें पहले अमित शाह से बात करनी चाहिए क्योंकि उन्होंने सभी 40 लाख लोगों को घुसपैठिया बताया था।