Moneycontrol » समाचार » राजनीति

EVM-VVPAT पर संग्राम, चुनाव आयोग से राबड़ी के सवाल

निष्पक्षता की मांग के साथ आज विपक्षी दलों ने कॉन्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया से चुनाव आयोग तक मार्च किया।
अपडेटेड May 21, 2019 पर 16:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मतगणना में निष्पक्षता की मांग के साथ आज विपक्षी दलों ने कॉन्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया से चुनाव आयोग तक मार्च किया। इन दलों की मांग है कि मतगणना के दौरान अगर किसी बूथ में कोई गड़बड़ी सामने आए तो उस पूरे विधानसभा क्षेत्र के EVM के वोटों का मिलान VVPAT पर्चियों से किया जाए। चुनाव आयोग तक मार्च से पहले इन पार्टियों ने एक बैठक भी की जिसमें EVM और VVPAT के मिलान के अलावा कुछ और बिंदुओं पर भी विचार किया गया। पिछले कुछ दिनों से EVM की सुरक्षा को लेकर भी कई सवाल उठे हैं और सोशल मीडिया पर EVM के रखरखाव में कोताही से संबंधित वीडियो भी वायरल हुए थे।


बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और RJD नेता राबड़ी देवी ने EVM की सुरक्षा को लेकर चुनाव आयोग से सवाल पूछे हैं। राबड़ी ने ट्वीट किया है कि देशभर के स्ट्रॉन्ग रूम्स के आसपास ईवीएम की बरामदगी हो रही है। ट्रकों और निजी वाहनों में ईवीएम पकड़ी जा रही है। ये कहां से आ रही हैं, कहां जा रही हैं? कब,क्यों,कौन और किसलिए इन्हें ले जा रहा है? क्या यह पूर्व निर्धारित प्रक्रिया का हिस्सा है? आयोग को अतिशीघ्र स्पष्ट करना चाहिए।


मतगणना नजदीक आते ही विपक्ष के नेताओं ने चुनाव आयोग पर दबाव बढ़ा दिया है। आज पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने भी एक बयान जारी इसपर चिंता जताई है और कहा है इसकी जिम्मेदारी चुनाव आयोग पर है। कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा है कि EVM की सुरक्षा को लेकर जो सवाल उठ रहे हैं, उसकी जांच करवाना चुनाव आयोग की जिम्मेदारी है। वहीं, EVM पर विपक्ष के सवालों को बेबुनियाद बताते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जो लोग चुनाव हारने लगते हैं वही चुनाव में गड़बड़ी होने की बात करते हैं।


चुनाव आयोग ने EVM की सुरक्षा पर उठ रहे सवालों पर सफाई दी है। आयोग ने सिसिलेवार तरीके से गाजीपुर, चंदौली, डुमरियागंज और झांसी में पुख्ता सुरक्षा इंतजाम का हवाला दिया है। आयोग ने कहा है कि है कि सभी जगहों पर EVM और VVPAT उम्मीदवारों की मौजूदगी में सील करके रखे गए हैं। उनकी वीडियोग्राफी करवाई गई है और अब CCTV कैमरों से नजर रखी जा रही है। केंद्रीय सुरक्षा बल सुरक्षा दे रहे हैं और उम्मीदवारों को स्ट्रॉन्ग रूम पर नजर रखने की इजाजत दी गई है।


इधर सुप्रीम कोर्ट ने भी सारे EVM और VVPAT के वोटों के मिलान के लिए दायर याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट ने चेन्नई की एक संस्था की याचिका खारिज करते हुए कहा है कि मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली बेंच ने पहले ही ये मांग खारिज कर दी है। आपको बता दें कि 21 विपक्षी दलों ने कम से कम 50 फीसदी EVM और VVPAT के मिलान के लिए याचिका दायर की थी।