Moneycontrol » समाचार » राजनीति

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट ने राहुल और प्रियंका गांधी से की मुलाकात, जानिए क्या हुई बातचीत?

14 अगस्त से राजस्थान विधानसभा का सत्र शुरू होगा जिसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहुमत साबित करने का प्रयास करेंगे
अपडेटेड Aug 11, 2020 पर 08:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

राजस्थान सरकार को गिराने की साजिश रचने और विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों से घिरे पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने पार्टी के शीर्ष नेताओं राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा से मुलाकात की। 14 अगस्त से शुरू होने वाले राजस्थान विधानसभा सत्र से ठीक पहले सचिन पायलट ने सोमवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से मुलाकात की। बता दें कि पिछले दिनों कांग्रेस ने पायलट को डिप्टी सीएम और राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया था।


सचिन पायलट ने शीर्ष नेताओं के सामने रखा अपना पक्ष


पार्टी सूत्रों ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से कहा कि राहुल और प्रियंका गांधी से इस मुलाकात दौरान सचिन पायलट ने विस्तार से अपना पक्ष रखा और फिर पार्टी के दोनों शीर्ष नेताओं ने उनकी चिंताओं के निदान का भरोसा दिलाया। पायलट से मुलाकात से पहले राहुल गांधी और प्रियंका ने करीब डेढ़ घंटे तक बैठक की। बाद में दोनों राहुल गांधी के आवास से निकले और किसी अन्य स्थान पर जाकर पायलट से मिले। यह मुलाकात विधानसभा सत्र आरंभ होने से कुछ दिनों पहले हुई है और अब राजस्थान में कांग्रेस के भीतर पिछले कुछ हफ्तों से चली आ रही उठापठक थमने की उम्मीद है।


सूत्रों ने पीटीआई से यह भी पुष्टि की कि पायलट लगातार शीर्ष कांग्रेस नेतृत्व के संपर्क में हैं और उनकी वापसी के लिए काम किया जा रहा है। कांग्रेस के सूत्रों ने कहा है कि पार्टी के अनुभवी नेता अहमद पटेल उस मुद्दे को सुलझाने के लिए काम कर रहे हैं, जिसने पायलट खेमे की बगावत से राज्य में अशोक गहलोत सरकार का अस्तित्व को खतरे में पड़ गया था।


14 अगस्त से शुरू होगा विधानसभा सत्र


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ खुलकर बगावत करने और विधायक दल की बैठकों में शामिल नहीं होने के बाद कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम के पदों से हटा दिया था। बागी रुख अपनाने के साथ ही पायलट कई बार स्पष्ट कर चुके हैं कि वह बीजेपी में शामिल नहीं होंगे। 14 अगस्त से राजस्थान विधानसभा का सत्र शुरू होगा जिसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहुमत साबित करने का प्रयास करेंगे।


दिल्ली में चल रही सुगबुहाटक पर पैनी नजर


बता दें कि रविवार रात जैसलमेर के एक होटल में ठहरे गहलोत खेमे के कांग्रेस विधायकों की बैठक में विद्रोहियों को पार्टी में वापस लेने को लेकर मिले-जुले विचार सामने आए। कुछ विधायकों ने बागी खेमे के नेताओं को वापस लेने के लिए कहा, तो वहीं कुछ इसके पक्ष में नहीं थे। इस बीच राज्य के नेताओं की दिल्ली में चल रही सुगबुगाहट पर भी पैनी नजर है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ कार्यकर्ता ने पुष्टि की है कि राजस्थान के कुछ मंत्रियों को सचिनन पायलट और उनके वफादार विधायकों को फिर से पार्टी से जोड़ने को लेकर बैठक करने के संकेत मिले थे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।