Moneycontrol » समाचार » राजनीति

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट ने राहुल गांधी से मांगा मिलने का समय-रिपोर्ट

कांग्रेस की कोशिश है कि 14 अगस्त से पहले किसी भी फार्मूले पर सचिन पायलट और बागी विधायक वापसी के लिए तैयार हो जाएं, ताकि फ्लोर टेस्ट से पहले ही गहलोत सरकार को सुरक्षित किया जा सके
अपडेटेड Aug 10, 2020 पर 18:35  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Rajasthan Political Crisis। राजस्थान में पिछले एक महीने से जारी सियासी उठापटक खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। अशोक गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रचने के आरोप में कांग्रेस से बगावत करने वाले प्रदेश के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने अब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahu Gandhi) से मिलने का समय मांगा है। सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस (Congress)) पार्टी से बगावत करने वाले 18 विधायकों के साथ सचिन पायलट ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है, लेकिन उन्हें कांग्रेस नेतृत्व की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला। इससे एक बार कांग्रेस में हलचल फिर अचानक से तेज हो गई है।


बताया जा रहा है कि राहुल गांधी ऑफिस की ओर से पायलट को अभी तक समय नहीं दिया गया है। राहुल गांधी के ऑफिस के सूत्रों ने बताया कि राहुल गांधी ने अब तक मुलाकात को लेकर कोई कन्फर्म डेट और समय नहीं दिया गया है। फिलहाल सचिन पायलट और अन्य विधायक पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल के संपर्क में हैं। माना जा रहा है कि 14 अगस्त से पहले सचिन पायलट की राहुल गांधी से मुलाकात हो सकती है। दूसरी तरफ, कांग्रेस विधायकों ने मांग की है कि सचिन पायलट और पार्टी के बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।


सूत्रों ने बताया है कि राजस्थान कांग्रेस के विधायकों ने रविवार को विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट और अन्य बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि वह पार्टी आलाकमान के सामने बागी विधायकों की वकालत नहीं करेंगे।  विधायक दल की बैठक में पायलट खेमे के खिलाफ कार्रवाई की मांग उठी। हालांकि इसके बाद पायलट खेमे को छोड़कर कांग्रेस में वापसी करने वाले विधायकों के फिर से पार्टी में स्वागत वाले बयान भी सामने आए।


राजस्थान में सियासी संग्राम को देखते हुए सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार सुबह सभी दलों के विधायकों को एक भावुक चिट्ठी लिखकर कहा कि आप सरकार गिराने की साजिश का हिस्सा नहीं बनें। आपकी अंतरात्मा क्या कहती है, उसके आधार पर अपना निर्णय लें। बता दें प्रदेश में सियासी संकट से निबटने के लिए अब तक किए गए तमाम प्रयासों के बावजूद भी इसका समाधान नहीं निकल पा रहा है। दिन प्रतिदिन बदलते रहे हालात के बाद अब मामला फ्लोर टेस्ट की स्टेज पर आ गया है।


कांग्रेस की कोशिश है कि 14 अगस्त से पहले किसी भी फार्मूले पर सचिन पायलट और बागी विधायक वापसी के लिए तैयार हो जाएं, ताकि फ्लोर टेस्ट से पहले ही गहलोत सरकार को सुरक्षित किया जा सके। कांग्रेस की इस कोशिश की एक बड़ी वजह BSP के 6 विधायकों पर 11 तारीख को हाईकोर्ट से आना वाला संभावित फैसले को भी माना जा रहा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।