Moneycontrol » समाचार » राजनीति

RLD चीफ और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित सिंह का निधन, Covid-19 से थे संक्रमित

अजित सिंह को मंगलवार को फेफड़ों में संक्रमण के कारण हालत बिगड़ने के बाद गुरुग्राम के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था
अपडेटेड May 06, 2021 पर 12:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

राष्ट्रीय लोकदल (RLD) प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह (Ajit Singh) का गुरुवार को निधन हो गया। वह 82 साल के थे। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एक प्रमुख नेता और RLD चीफ को मंगलवार को फेफड़ों में संक्रमण के कारण हालत बिगड़ने के बाद गुरुग्राम के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 20 अप्रैल को Covid-19 से संक्रमित पाए गए थे।


अजित सिंह की हालत खराब हो गई और गुरुवार को उनका निधन हो गया, उनके बेटे और पूर्व सांसद जयंत चौधरी ने ट्विटर पर ये जानकारी दी। जयंत चौधरी ने ट्वीट में लिखा, "चौधरी साहब नहीं रहे!"


अजित सिंह (1939-2021)


पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के बेटे, चौधरी अजित सिंह सात बार बागपत से सांसद रह चुके थे। उन्होंने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री के रूप में भी काम किया।


1979-1980 में छह महीने के लिए देश के प्रधानमंत्री रहे किसान नेता चरण सिंह के बेटे, अजित सिंह ने अमेरिका में कंप्यूटर इंडस्ट्री में 15 साल काम किया, जब वह अपने पिता की राजनीतिक विरासत को हासिल करने के लिए देश लौट आए। IIT खड़गपुर और इलिनोइस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, शिकागो के पूर्व छात्र, अजित सिंह पहली बार 1986 में राज्यसभा के लिए चुने गए थे।


लोकसभा के सात बार के सदस्य, अजित सिंह ने संसद के निचले सदन में अपने मूल क्षेत्र बागपत का प्रतिनिधित्व किया। उनकी पार्टी RLD का जाट बहुल पश्चिमी उत्तर प्रदेश में काफी प्रभाव रहा है।


अजित सिंह का राजनीतिक जीवन


अजित सिंह ने लोकदल का कांग्रेस से, भारतीय जनता पार्टी (BJP) और समाजवादी पार्टी से गठबंधन किया। अजित सिंह ने ज्यादातर उस पार्टी के साथ गठबंधन किया है, जिसके जीतने ज्यादा चांस रहे हों।


अजित सिंह को वीपी सिंह सरकार में केंद्रीय उद्योग मंत्री के रूप में शामिल किया गया था। वह खाद्य मंत्री के रूप में पीवी नरसिम्हा राव सरकार में शामिल हुए लेकिन 1996 में कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया।


इसके बाद अजित सिंह ने RLD का गठन किया और 2001 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में कृषि मंत्री के रूप में शामिल हुए। वह मई 2003 तक राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार का हिस्सा थे।


उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के बाद अजित सिंह संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) में शामिल हो गए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।