Moneycontrol » समाचार » राजनीति

अंतिम सफर पर शीला दीक्षित, पंचतत्व में हुईं विलीन

दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष रहीं शीला दीक्षित के निधन के बाद अब पार्टी के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती है। पार्टी को ऐसे नेता की तलाश है जो उनकी जिम्मेदारी को शीला दीक्षित की तरह बखूबी संभाल सके।
अपडेटेड Jul 21, 2019 पर 09:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री पंचतत्व में विलीन हो गईं। उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए गृहमंत्री अमित शाह भी पहुंचे। शाह निगमबोध घाट पहुंचे और दिवंगत कांग्रेस नेता को श्रद्धांजलि दी। निगमबोध घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। निगमबोध घाट पर बारिश के बीच बड़ी संख्या में समर्थक और कांग्रेस के दिग्गज नेता पहुंचे।
दिल्ली में दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। दिल्ली भाजपा ने अपने दो दिनों के सारे कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं।




बता दें कि, द‍िल्ली कांग्रेस की अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित  का 81 साल की उम्र में शनिवार को एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार आज यानी रविवार को निगम बोध घाट पर हुआ। सबसे पहले उनके पार्थिव शरीर को एम्बुलेंस से निजामुद्दीन स्थित उनके आवास पर ले जाया गया। यहां उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा स्पीकर ओम बिरला, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी समेत कई दिग्गज नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। इसके अलावा पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण ने श्रद्धांजलि दी।  


शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने कहा कि उन्हें उनकी मां की हमेशा याद आएगी। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें दिल्ली के विकास के लिए हमेशा याद रखा जाएगा। 



  दिल्ली वाले अपने-अपने तरीके से उन्हें याद कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग उन्हें मॉडर्न दिल्ली की मां कहकर श्रद्धांजलि दे रहे है। बीजेपी के सांसद और दिल्ली के पार्टी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा,  वह हमेशा मां की तरह मेरा स्वागत करती थीं। दिल्ली हमेशा उन्हें मिस करेगी। 


पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रविवार सुबह 11 बजे तक उनके आवास पर रखा जाएगा। इसके बाद दोपहर 12 बजे उनका पार्थिव शरीर कांग्रेस दफ्तर ले जाया जाएगा। यहां कांग्रेस नेता सहित अन्य लोग उन्हें श्रद्धांजलि देंगे। दिल्ली सरकार ने उनके निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। साथ ही राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार करने का फैसला किया है।