Moneycontrol » समाचार » राजनीति

Karnataka Basavaraj Bommai: TATA ग्रुप से प्रोफेशनल करियर की शुरुआत, जनता दल के जरिए रखा राजनीति में कदम, अब बनेंगे CM

Karnataka New CM: बोम्मई बीएस येदियुरप्पा के काफी करीबी हैं और वर्तमान में राज्य गृह मंत्री का पद संभाल रहे हैं
अपडेटेड Jul 28, 2021 पर 07:40  |  स्रोत : Moneycontrol.com

बीएस येदियुरप्पा (BS Yediyurappa) के सोमवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री (Karnataka CM) के रूप में पद छोड़ने के बाद, चर्चा और अटकलें थीं कि राज्य के सीएम के रूप में BSY का उत्तराधिकारी कौन होगा? हालांकि, अटकलों पर विराम लगाते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने मंगलवार को बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) को राज्य का अगला मुख्यमंत्री चुना। इससे पहले की हम आपको कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री के बारे में बताएं, ये जान लीजिए के बोम्मई येदियुरप्पा के काफी करीबी हैं और वर्तमान में राज्य गृह मंत्री हैं।


कौन हैं कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बोम्मई?


28 जनवरी 1960 को जन्मे बसवराज बोम्मई कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसआर बोम्मई के बेटे हैं। वह सदारा लिंगायत समुदाय से हैं।


राजनीतिक करियर


बसवराज ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत जनता दल से की, जो बाद में पार्टी छोड़कर फरवरी, 2008 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। 2008 के कर्नाटक राज्य चुनावों में, वह हावेरी जिले के शिगगांव निर्वाचन क्षेत्र से कर्नाटक विधान सभा के लिए चुने गए। सीएम के रूप में चुने जाने से पहले, बोम्मई पहले गृह मामलों, कानून, संसदीय मामलों और कर्नाटक के विधानमंडल राज्य मंत्री थे। उन्होंने हावेरी और उडुपी जिला प्रभारी मंत्री के रूप में भी काम किया। उन्होंने पहले जल संसाधन और सहकारिता मंत्री का पद भी संभाला है।


कर्नाटक के लिए बसवराज बोम्मई का योगदान


एक इंजीनियर और पेशे से एक एग्रीकल्चरिस्ट और उद्योगपति बोम्मई ने अपने करियर की शुरुआत टाटा ग्रुप (TATA Group) के साथ की थी। नव निर्वाचित मुख्यमंत्री व्यापक रूप से असंख्य सिंचाई (Innumerable Irrigation) योजनाओं में उनके योगदान और कर्नाटक में सिंचाई मामलों के बारे में गहन जानकारी के लिए जाने जाते हैं।


उन्हें कर्नाटक के हावेरी जिले के शिगगांव में भारत की पहली 100% पाइप सिंचाई परियोजना को लागू करने का श्रेय भी दिया जाता है।
नए मुख्यमंत्री के रूप में चुने जाने के बाद बसवराज एस बोम्मई ने कहा, "मौजूदा स्थिति में ये एक बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। मैं गरीबों के कल्याण के लिए काम करने का प्रयास करूंगा। ये शासन लोगों के लिए और गरीब के लिए होगा।"


येदियुरप्पा ने ही रखा बोम्मई के नाम का प्रस्ताव


बोम्मई उत्तर कर्नाटक के एक मजबूत लिंगायत नेता भी हैं। एक निजी होटल में केंद्रीय पर्यवेक्षकों और केंद्रीय मंत्रियों धर्मेंद्र प्रधान और जी किशन रेड्डी की अध्यक्षता में हुई BJP विधायक दल की बैठक में CM पद के लिए बोम्मई के नाम के घोषणा की गई।


खुद येदियुरप्पा ने ही बोम्मई के नाम का प्रस्ताव रखा और BJP विधायकों ने भी इस पर सहमति जताई। बोम्मई बुधवार सुबह 11 बजे राजभवन में कर्नाटक के 30वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।