Moneycontrol » समाचार » राजनीति

वंशवाद और आतंकवाद के समर्थक ही कश्मीर पर सरकार के फैसले का कर रहे विरोध: पीएम मोदी

अनुच्छेद 370 के हटने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने IANS को दिए इंटरव्यू में विपक्ष पर करारा हमला बोला है
अपडेटेड Aug 15, 2019 पर 12:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अनुच्छेद 370 के हटने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने न्यूज एजेंसी IANS को दिए इंटरव्यू में विपक्ष पर करारा हमला बोला है। 370 हटाने के फैसले का बचाव करते हुए PM मोदी ने कहा कि वंशवाद और आतंकवाद के समर्थक ही कश्मीर पर सरकार के फैसले का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि  देश की जनता पूरी तरह से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख पर सरकार के फैसले के साथ है।  PM मोदी ने कहा कि अनुच्छेद 370 को बनाए रखने का कोई मतलब नहीं था। इससे जनता में अलगाववाद की भावना बढ़ती थी। इसके साथ ही महिला, बच्चों और अल्पसंख्यकों के साथ इससे नाइंसाफी होती थी। PM मोदी ने कहा कि पंचायत चुनाव में बड़ी तादाद में जिस तरह से लोगों ने वोट किया उससे ये साबित हो गया है कि कश्मीर की जनता लोकतंत्र के पक्ष में है।


प्रधानमंत्री ने कहा कि विवादास्पद अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को जिस व्यवस्थित और निर्बाध तरीके से सफलतापूर्वक हटाया गया उससे न केवल पाकिस्तान की आंखें चौंधिया गईं, बल्कि वह भौचक्क-सा रह गया। पीएम को साफ तौर पर लगता है कि इसके कुछ प्रावधान देश को नुकसान पहुंचा रहे थे। मोदी ने कहा कि इससे सिर्फ राजनीतिक परिवारों और अलगाववादियों को मदद मिलती थी। पीएम ने कहा, अब यह सबको स्पष्ट है कि कैसे अनुच्छेद 370 और 35ए ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग-थलग कर दिया था। 7 दशक के समय ने लोगों का कोई भला नहीं किया।


पीएम ने कहा कि जो लोग अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध कर रहे हैं, मेरा उनसे सीधा सा सवाल है कि अनुच्छेद 370 और 35ए को बनाए रखने के पीछे उनका क्या तर्क है? पीएम ने कहा कि उनके पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं होगा।


इसके अलावा पीएम ने अपने 75 दिन की उपलब्धियां भी गिनाईं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने किसान से कश्मीर तक सबके लिए काम किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल के 75 दिन पूरे होने पर अब तक के कामकाज के शानदार बताया। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि सरकार ने जो भी हासिल किया वह स्पष्ट नीति, सही दिशा का नतीजा था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।