Moneycontrol » समाचार » राजनीति

टक्कर: अधिकारों की जंग पर सुप्रीम फैसला, खत्म होगी जंग!

प्रकाशित Thu, 05, 2018 पर 07:58  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर डिबेट शो टक्कर में सोमवार से शुक्रवार रात 09:00 बजे आपसे जुड़े हुए मुद्दे उठाए जाते हैं और सरकार से पूछे जाते हैं तीखे सवाल। टीवी पर बहस तो बहुत होती रहती हैं लेकिन वहां तू-तू, मैं-मैं के बीच आपके मुद्दे दब जाते हैं और आपके हक की आवाज़ गुम हो जाती है। इसलिए टक्कर में उन चेहरों से सीधे सवाल किए जाते हैं जिनकी आपके प्रति सीधी जवाबदेही बनती है। टक्कर महज एक शो नहीं है ये 130 करोड़ भारतीयों की एक बड़ी मुहिम है।


टक्कर में आज बात हो रही है दिल्ली में केजरीवाल और एलजी के बीच हो रही पावर पॉलिटिक्स की। दिल्ली में आखिर किसकी सरकार है ये बात आज सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दी है। दिल्ली में उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच अधिकार की लड़ाई पर आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि दिल्ली में एलजी अपनी मर्जी से स्वतंत्र फैसले नहीं ले सकते वो मंत्रिपरिषद के सहयोग और सलाह पर ही काम करेंगे। चीफ जस्टिस और दो अन्य जजों ने कहा कि दिल्ली सरकार अपने हर फैसले एलजी को बताए लेकिन इस पर एलजी की सहमति जरूरी नहीं होगी।


कोर्ट ने ये भी साफ किया है कि अगर टकराव की नौबत आती है तो एलजी इसे राष्ट्रपति के पास भेज सकते हैं। दिल्ली को स्पेशल राज्य बताते हुए कोर्ट ने कहा है कि जमीन, पुलिस और कानून-व्यवस्था का जिम्मा दिल्ली सरकार के पास नहीं है ये तीनों केंद्र के अधीन ही रहेंगे। इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने 4 अगस्त 2016 को दिए अपने फैसले में कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 239-एए के तहत एलजी यानि उपराज्यपाल ही दिल्ली के मुखिया हैं। हाईकोर्ट ने यह भी कहा था कि मंत्रिमण्डल की हर सलाह को मानने के लिए एलजी बाध्य नहीं है। तबादले तथा नियुक्तियों के बारे में एलजी तथा केन्द्र सरकार को ही सभी अधिकार हासिल हैं।


दिल्ली सरकार के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। सिसोदिया ने केन्द्र सरकार और एलजी पर मनमानी के आरोप लगाए। उधर बीजेपी नेता महेश गिरी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को केन्द्र और एलजी की जीत बताया। गिरी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी एलजी को दिल्ली का बॉस मान लिया है। वहीं दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने कहा कि एलजी और केजरीवाल को दिल्ली की भलाई के लिए मिलकर काम करना चाहिए।