Moneycontrol » समाचार » राजनीति

ट्रंप का दावा झूठा, कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने के लिए नहीं दिया प्रस्ताव: भारत

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि, पीएम नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति से ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है।
अपडेटेड Jul 23, 2019 पर 09:38  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस दावे को खारिज कर दिया , जिसमें उन्होंने कहा था कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने के लिए कहा था।




ट्रंप ने ये टिप्पणी तब की जब उन्होंने सोमवार को व्हाइट हाउस में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ साझा प्रेस कॉफ्रेन्स कर रहे थे। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि दो हफ्ते पहेल जब मेपी नरेंद्र मोदी से मुलाकात हुई थी और उन्होंने मुझसे पूछा था कि क्या आप मध्यस्थ बनना चाहेंगे? मैने पूछा कहां? उन्होंने कहा, कश्मीर में। क्योंकि इस मुद्दे पर कई सालों से विवाद चल रहा है। 



ट्रंप ने कहा कि, अगर मैं मदद कर सकता हूं तो मुझे मध्यस्थ बनकर खुशी होगी। ट्रंप ने इमरान से कहा कि क्या आप कश्मीर मुद्दे का हल देखना चाहेंगे। ट्रंप ने बाद में जापान में ओसाका में जी-20 की बैठक के मौके पर मोदी के साथ बैठक का जिक्र किया।
वाशिंगटन के न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक, इमरान खान ने कहा कि, एक अरब लोगों की प्रार्थना आपके साथ होगी, अगर आप मध्यस्थता करके इस मुद्दे को हल कर सकते हैं।


ट्रंप के इस बयान पर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने ट्वीट करके ट्रंप के बयान को खारिज कर दिया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने लिखा कि हमने राष्ट्रपति ट्रंप के बयान को प्रेस में देखा कि कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने को तैयार हैं, अगर भारत और पाकिस्तान इसकी मांग करें। पीएम मोदी ने ऐसी कोई मांग राष्ट्रपति ट्रंप से नहीं की है। उन्होंने आगे ट्वीट किया कि पाकिस्तान के साथ सभी मुद्दों पर द्वपक्षीय वार्ता ही होगी। पाकिस्तान से किसी भी बातचीत की शर्त ये है कि सीमार पार से आतकंवाद बंद हो।