Moneycontrol » समाचार » राजनीति

जीएसटी को सरल बनाने की कोशिश जारी: पीएम मोदी

प्रकाशित Wed, 02, 2019 पर 08:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नए साल के पहले दिन को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मेगा इंटरव्यू के लिए चुना। न्यूज एजेंसी एएनआई की एडिटर स्मिता प्रकाश को दिए करीब 1.5 घंटे के मैराथन इंटरव्यू में मोदी ने नोटबंदी से लेकर राफेल तक, गठबंधन से लेकर चुनावी हार तक हर सवाल का जवाब दिया। किसानों की कर्ज माफी, उर्जित पटेल का इस्तीफा और जीएसटी जैसे मुद्दों पर भी पीएम बेबाकी से बोले। उनके इस इंटरव्यू और उसमें दिए गए जवाबों में देश में कुछ दिनों तक लगातार चर्चा होगी।


इस इंटरव्यू में जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स कहे जाने पर पीएम मोदी ने विरोधियों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि जिसकी जैसी सोच होती है वो वैसा ही बोलते हैं। हालांकि उन्होंने माना कि जीएसटी में कुछ सुधार की गुंजाइश है और सरकार लगातार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि जीएसटी काउंसिल मिलकर फैसले करती है। जीएसटी आने से टैक्स में सरलता आई है। जीएसटी पर राजनीतिक हल्ला करना ठीक नहीं। जीएसटी से व्यापारियों को दिक्कत हुई है। इन दिक्कतों को दूर करने के लिए जीएसटी में लगातार बदलाव कर रहे हैं। जीएसटी को सरल बनाने की कोशिश जारी है।


आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे पर भी पीएम मोदी बोले। उन्होंने कहा कि निजी कारणों से ही उर्जित पटेल ने इस्तीफा दिया। किसानों की कर्जमाफी और राहुल गांधी के कर्जमाफी अभियान को लेकर पीएम मोदी ने विपक्षियों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कर्जमाफी से किसानों की दिक्कतें दूर नहीं होगी। उनकी सरकार किसानों को मर्ज को खत्म करने के लिए कदम उठा रही है। उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस ने सभी किसानों का कर्ज माफ नहीं किया, कांग्रेस झूठ फैला रही है। लोगों को उकसाने के लिए झूठ नहीं बोलना चाहिए। कर्ज माफी से किसान का दर्द नहीं जाता। ऐसी व्यवस्था बने कि किसान पर कर्ज ही ना हो।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राफेल के मुद्दे पर भी सफाई से अपने दिल की बात रखी। उन्होंने कहा कि राफेल में उनपर कोई व्यक्तिगत आरोप नहीं हैं। जहां तक आरोपों की बात है तो वो बेबुनियाद हैं। देश में काला धन वापस लाने के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा कि भगोड़ों को बख्शा नहीं जाएगा। भगोड़ों को वापस लाएंगे। भगोड़े कानून के डर से भागे हैं। भगोड़ों के लिए संपत्ति जब्त करने का कानून बनाया गया है। विदेशों में भी भगोड़ों की संपत्ति जब्त हुई है। सरकार पैसा वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है।


नोटबंदी जिसे बड़ा झटका माना गया उस पर भी पीएम मोदी ने सफाई दी है। उन्होंने कहा कि इकोनॉमी की सेहत के लिए नोटबंदी जरूरी थी। नोटबंदी का फैसला अचानक नहीं हुआ बल्कि साल भर की तैयारी के बाद इसे लागू किया गया।


एएनआई को दिए इंटरव्यू में पीएम मोदी ने साफ किया कि सर्जिकल स्ट्राइक जरूरी थी। उन्होंने ये भी बताया कि कैसे सर्जिकल स्ट्राइक का ब्लू प्रिंट उन्होंने तैयार किया। वहीं पीएम मोदी ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक पर सियासत नहीं होनी चाहिए थी। उन्होंने दो टूक कहा कि बीजेपी और सरकार के किसी नेता और मंत्री ने इस पर बयान पहले नहीं दिया। इसको लेकर सबसे पहले एक पार्टी ने पाकिस्तान की जुबान में सियासत शुरू की।


महागठबंधन और मोदी बनाम ऑल की राजनीति के सवाल पर भी पीएम मोदी ने खुलकर जवाब दिया। उन्होंने कहा कि महागठबंधन का जनता के हित से कोई वास्ता नहीं है। लोग खुद को बचाने के लिए मैदान में हैं। गांधी परिवार पर वार करते हुए पीएम ने कहा कि आज बहुत से ऐसे लोग हैं जो जमानत पर बाहर है। देश की फर्स्ट फैमिली के लोग गड़बड़ियों की वजह से फंसे हैं और सरकार ने उनपर शिकंजा कसा है। 4 पीढ़ियों तक देश पर राज करने वाले जमानत पर हैं। वित्तीय गड़बड़ी के आरोप में वो जमानत पर हैं। कुछ लोग गांधी परिवार की जानकारी दबा रहे हैं। कानून प्रक्रिया सबसे लिए एक है। किसी व्यक्ति या संस्था से इसका लेना देना नहीं है।


मोदी मैजिक पर पीएम मोदी ने कहा कि जो लोग पहले मानते थे कि मोदी मैजिक जैसी कोई चीज नहीं है उन्होंने माना कि मोदी मैजिक है। उपचुनावों में हार के बाद मोदी-शाह की जोड़ी पर सवाल उठने लगे हैं क्या इस जोड़ी को जिम्मेदारी नहीं लेनी चाहिए इस सावल के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि बीजेपी सिर्फ दो लोगों की पार्टी है ऐसा सोचे वाले गलत हैं।


राम मंदिर पर पीएम मोदी ने दो टूक कहा है कि वो कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे और उसके बाद ही अध्यादेश पर विचार होगा। वहीं तीन तलाक के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा कि ये धर्म नहीं महिला इंसाफ का सवाल है। कई इस्लामिक देशों में भी तीन तलाक पर पाबंदी लगाई गई है। प्रधानमंत्री मोदी ने भीड़ की हिंसा पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा गाय के नाम पर हिंसा हो या कुछ हिंसा की जगह समाज में नहीं होनी चाहिए।


प्रधानमंत्री मोदी के इस इंटरव्यू पर विपक्ष की भी नजर थी इसलिए जैसे ही इंटरव्यू खत्म हुआ कांग्रेस पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके पीएम मोदी पर हमला किया। कांग्रेस ने कहा कि ये जुमलों वाला इंटरव्यू है और प्रधानमंत्री ने किसी भी सवाल का जवाब नहीं दिया है। पीएम मोदी के इंटरव्यू पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने चुटकी लेते हुए कहा कि अच्छे दिन आने वाले हैं मोदी जी जाने वाले हैं। वहीं, कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा कि नोटबंदी जैसा फैसला लेने से पहले लोगों को समय देना चाहिए था।