Moneycontrol » समाचार » राजनीति

विरोध प्रदर्शन के पीछे किसका हाथ, कब तक जारी रहेगा विरोध प्रदर्शन

दिल्ली से नोएडा को जोड़ने वाला शाहीन बाग-कालिंदी कुंज रोड एक महीने से बंद है।
अपडेटेड Jan 19, 2020 पर 17:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नागरिकता कानून और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है। इसी बड़ी चर्चा में सीएनबीसी-आवाज़ के साथ भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता नरेंद्र तनेजा, CPI के नेता आमिर हैदर जैदी, राजनीतिक विश्लेषक निशांत वर्मा और निघत अब्बास, वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह और हर्षवर्धन त्रिपाठी जुड़ गये हैं।
 
दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में पिछले एक महीने से नागरिकता कानून और NRC के खिलाफ लगातार विरोध प्रदर्शन चल रहा है। लेकिन इस प्रदर्शन की वजह से लोगों को आने-जाने में भारी दिक्कत हो रही है। दिल्ली से नोएडा को जोड़ने वाला शाहीन बाग-कालिंदी कुंज रोड एक महीने से बंद है। सवाल ये उठ रहा है कि धरने पर जो महिलाएं, बच्चे बैठे हैं क्या उन्हें भाड़े पर लाया गया है। बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने एक वीडियो शेयर करके सवाल उठा दिया है।


बीजेपी कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों के ऊपर नागरिकता कानून के खिलाफ लोगों को भड़काने और हिंसा फैलाने का आरोप लगाती रही है। अब उसका कहना है कि कांग्रेस एक्सपोज हो गई है।
 
कुछ वीडियो ऐसे भी चल रहे हैं जिनमें बच्चे नरेंद्र मोदी और अमित शाह के खिलाफ ऐसी बातें कर रहे हैं जो लगता है कि उन्हें सिखा पढ़ाकर बैठाया गया है। लेकिन कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी लोगों के बीच भ्रम फैला रही है।
 
सवाल है कि लोकतंत्र विरोध करने का हक देता है तो ये दूसरों की तकलीफ बढ़ाकर ही हो ये जरूरी नहीं। आखिर महीने भर से दिल्ली और नोएडा के लोग इस प्रदर्शन की वजह से क्यों परेशान हैं? सवाल ये भी है कि शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन के पीछे किसका हाथ है? बच्चों का ब्रेनवॉश करके आखिर क्या कोई दूसरा पक्ष नफरत के बीज नहीं बो रहा है? अगर ये धरना किसी पार्टी से संचालित नहीं है तो फिर इसे खत्म करने की पहल कौन करेगा? क्योंकि सरकार इस मुद्दे पर पीछे हटने को तैयार नहीं है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।