Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

घर किराए पर ले रहे हैं? पहले इन पांच चीजों की पड़ताल जरूर कर लें

प्रकाशित Thu, 27, 2019 पर 16:28  |  स्रोत : Moneycontrol.com

किसी दूसरे शहर में शिफ्ट होने पर सबसे बड़ा काम होता है- किराए पर फ्लैट ढूंढना। यूं तो पसंद का फ्लैट मिलना ही मुश्किल होता है लेकिन कभी-कभी शिफ्ट होने के बाद असल समस्याएं सामने आती हैं, इसलिए किराए पर शिफ्ट होने से पहले कुछ चीजें हैं, जिनकी पड़ताल पहले ही कर लेनी चाहिए। वहीं, कुछ बातें हैं जो अपने लैंडलॉर्ड से शिफ्ट होने से पहले साफ कर लेनी चाहिए।


वर्ना शिफ्ट होने के के बाद जो परेशानियां खड़ी होती हैं, उनसे पीछा छुड़ाना सबसे बड़ा सिरदर्द बन जाता है। यहां कुछ पॉइंट्स हैं, जिनपर शिफ्ट होने से पहले ध्यान देना चाहिए।


रेंट और इंक्रीमेंट की क्या स्थिति है?


किसी भी प्रॉपर्टी की कीमत उसके लोकेशन, कंन्सट्रक्शन एज, कन्सट्रक्शन की क्वालिटी और वहां मिल रही सुविधाओं के हिसाब से तय होती है। फ्लैट किराए पर लेने से पहले अपना बजट देख लें और उसी हिसाब से लोकेशन्स पर फ्लैट ढूंढें। जहां तक इंक्रीमेंट की बात है, आमतौर पर लैंडलॉर्ड 11 महीनों में रेंट बढ़ा देते हैं, इसलिए इस बारे में अपने लैंडलॉर्ड से पहले ही जानकारी ले लें। पता कर लें कि रेंट कितना बढ़ सकता है और हो सके तो थोड़ा मोल-तोल करने की कोशिश भी कर लें।


डिपॉजिट कितना है?


अधिकतर लैंडलॉर्ड्स शिफ्ट होने से पहले एडवांस रेंट के साथ सिक्योरिटी डिपॉजिट की मांग करते हैं। सिक्योरिटी का अमाउंट एक महीने, छह महीने और बड़े शहरों में एक साल तक का रेंट हो सकता है। सिक्योरिटी का अमाउंट इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस एरिया में, किस क्वालिटी की प्रॉपर्टी रेंट कर रहे हैं। फर्निशिंग पर सिक्योरिटी अमाउंट बढ़ सकता है। फर्निश्ड या सेमी-फर्निश्ड अपार्टमेंट लेने पर आपको ज्यादा सिक्योरिटी अमाउंट देना पड़ सकता है।


रेंट एग्रीमेंट चेक करना न भूलें


आपका रेंट एग्रीमेंट सबसे अहम डॉक्यूमेंट है। इसमें आपको ड्यूरेशन, टर्मिनेशन, एक्सटेंशन, रेंट, सिक्योरिटी से लेकर लैंडलॉर्ड और टीनेंट के राइट्स की लेखा-जोखा होता है। ये चेक कर लीजिए कि एग्रीमेंट स्टाम्प पेपर पर बना हो और इसपर लोकल अथॉरिटीज के हस्ताक्षर हों।


कभी भी निकलने का फरमान नहीं सुना सकता मकान मालिक


प्रॉपर्टी भले ही लैंडलॉर्ड की हो, लेकिन आपको तुरंत फ्लैट से बाहर नहीं निकाला जा सकता। लैंडलॉर्ड को आपको 15 दिन का नोटिस देना होगा, इसके लिए उसे एविक्शन का ठोस कारण देना होगा। एविक्शन की स्थिति रेंट एग्रीमेंट या दूसरी गाइडलाइंस का उल्लंघन करने, प्रॉपर्टी का गलत इस्तेमाल करने, टाइम से रेंट या दूसरे चार्ज न देने पर बन सकती है। लेकिन ये जान लीजिए कि ट्रांसफर ऑफ प्रॉपर्टी एक्ट के तहत लैंडलॉर्ड को अपने किराएदार को 15 दिनों का एविक्शन नोटिस देना होगा।


बिजली-पानी देना मकान मालिक की जिम्मेदारी


आपको बेसिक सुविधाएं देने की जिम्मेदारी लैंडलॉर्ड की है। वॉटर सप्लाई और इलेक्ट्रिसिटी प्रोवाइड मकानमालिक कराएगा। अगर बीच में आपको इन सुविधाओं से महरूम कराया जा रहा है तो आप पुलिस के पास जा सकते हैं।


इसके अलावा कहीं भी शिफ्ट होने से पहले उस फ्लैट की छोटी से छोटी चीज चेक कर लें। पेंट, दरवाजे, खिड़की सबकुछ सही स्थिति में है या नहीं, बल्ब-पंखे काम कर रहे या नहीं, टॉयलेट, फ्लश, नल सही स्थिति में हैं या नहीं, लॉक ठीक से बंद हो रहा या नहीं, ये सारी चीजें चेक करना बिल्कुल न भूलें।