Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

विरासत में मिल रहा है घर? जानें आगे क्या उठाने चाहिए कदम

विरासत में प्रॉपर्टी मिलना आपके लिए विंडफॉल होना चाहिए न कि बोझ।
अपडेटेड Jul 22, 2019 पर 14:50  |  स्रोत : Moneycontrol.com

विरासत में घर या प्रॉपर्टी मिलना अचानक से मिले एक बड़े गिफ्ट से कम नहीं है, लेकिन गिफ्ट मिलने से आपको खुशी मिलनी चाहिए, न कि आपकी चिंताएं बढ़नी चाहिए। विरासत में प्रॉपर्टी मिलना आपके लिए विंडफॉल होना चाहिए न कि बोझ। हालांकि, विरासत में घर मिलना आपकी चिंताएं बढ़ा सकता है।


विरासत में घर मिलने के साथ आपके सामने कई सवाल खड़े होंगे। आपको यह भी तय करना होगा कि आप इस प्रॉपर्टी के साथ क्या करना चाहते हैं। अगर इस प्रॉपर्टी को आपके साथ कई लोग साझा कर रहे हैं तो ये पूरी प्रक्रिया काफी जटिल हो जाएगी।


प्रॉपर्टी मिलने के बाद सबसे बड़ा सवाल होता है आप इसमें शिफ्ट होना चाहते हैं, बेचना चाहते हैं या किराए पर देना चाहते हैं?


बेचने का ऑप्शन कैसा होगा?


आमतौर पर विरासत में घर मिलने पर लोगों की पहली मानसिकता उसे बेचकर अपने लिए नया फ्लैट लेने की होती है। लेकिन लॉन्ग टर्म में यह आपके लिए बहुत फायदेमंद नहीं होगा।


इन्हेरिटेंस में मिले घर को आप टुकड़ों में नहीं बेच सकते, ये बल्की एसेट होता है और आपको इसे एक बार में पूरा बेचना होगा। वहीं नया घर लेना है तो जरूरी नहीं है कि आपकी प्रॉपर्टी और उस प्रॉपर्टी की कीमत एक समान हो, जो आप लेना चाहते हैं। इस पर आपके ऊपर फालतू बोझ बढ़ेगा। वहीं, घर की EMIs, रजिस्ट्रेशन, लागत स्टाम्प ड्यूटी, इंटीरियर वगैरह का खर्चा अलग से उठाना पड़ेगा।


शिफ्ट करना है?


अगर आप उसी घर में रहते हैं तो पहले तो आपको ये सारे खर्चे नहीं उठाने पड़ेंगे, दूसरा अगर आप अब तक किराए पर रहते थे तो आपके किराए के पैसे बचेंगे जो सेविंग्स में जाएंगे। आप इस घर को अपने सेविंग्स और स्ट्रॉन्ग पोर्टफोलियो बिल्ड करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।


किराए पर देना है?


किराए पर घर देना आपके लिए इनकम एक बंधा-बंधाया जरिया हो सकता है। हालांकि, जाहिर है कि आपको इस इनकम पर टैक्स देना होगा। वहीं, किराए पर उठाने के लिए आपको इस घर को मॉडिफाई भी करना होगा। वहीं, किराएदार और घर को मैनेज करना भी एक बड़ा टास्क होगा।


ऐसे में विरासत में घर मिलना एक बड़ा सवाल खड़ा करता है, इसलिए ऐसी स्थिति में हमेशा सोच-विचार कर फैसला लें।