AGR के लिए 28,450 करोड़ रुपए के प्रावधान से सितंबर तिमाही में Airtel को 23,045 करोड़ का लॉस

AGR के लिए 28,450 करोड़ रुपए का प्रावधान करने से कंपनी को इतना बड़ा लॉस हुआ है
अपडेटेड Nov 15, 2019 पर 12:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

टेलीकॉम इंडस्ट्री की मुश्किलों का असर भारती एयरटेल (Bharti Airtel) के शेयरों पर साफ नजर आ रहा है। 30 सितंबर को खत्म तिमाही में भारती एयरटेल को कुल 23,045 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। इसकी एक बड़ी वजह AGR है। AGR के लिए 28,450 करोड़ रुपए का प्रावधान करने से कंपनी को इतना बड़ा लॉस हुआ है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में कंपनी का नेट लॉस (एक्सेप्शनल आइटम से पहले) 1123 करोड़ रुपए था।


इस दौरान कंपनी की आमदनी 4.90 फीसदी बढ़कर 21,131 करोड़ रुपए रही। कॉरपोरेट टैक्स में कमी की वजह से कंपनी को थोड़ी राहत जरूर मिली है। इससे सितंबर तिमाही में कंपनी को 8932 करोड़ रुपए का टैक्स गेन हुआ है। जबकि पिछले साल की इसी तिमाही में यह सिर्फ 2632.60 करोड़ रुपए था।


नतीजे जारी होने के बाद भारती एयरटेल ने एक बयान जारी करते हुए कहा है, "24 अक्टूबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) को लेकर अपना फैसला सुनाया है। यह केस लंबे समय से टेलीकॉम इंडस्ट्री और दूरसंचार विभाग के बीच चल रहा है। कोर्ट के फैसले का असर कंपनियों की माली हालत पर पड़ेगी।" सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में टेलीकॉम कंपनियों को तीन महीने के भीतर AGR की रकम चुकाने को कहा है।


कंपनी ने आगे कहा है कि उसे पूरी उम्मीद है कि सरकार इस मामले में राहत देगी। लेकिन अगर सरकार की तरफ से कोई राहत नहीं मिलती है तो भारती एयरटेल को तिमाही के लिए कुल 28,450 करोड़ रुपए चुकाने पड़ेंगे। इसमें 6614 करोड़ रुपए प्रिंसिपल और 12,219 करोड़ रुपए इंटरेस्ट है। इसके साथ ही 3760 करोड़ रुपए की पेनाल्टी और 6307 करोड़ रुपए पेनाल्टी की ब्याज है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।