HDFC: मुनाफा 26.8% बढ़ा, प्रति शेयर 17.50 रुपए डिविडेंड का ऐलान

प्रकाशित Mon, 13, 2019 पर 12:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में एचडीएफसी का मुनाफा 26.8 फीसदी बढ़कर 2,861.6 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में एचडीएफसी का मुनाफा 2,256.7 करोड़ रुपये रहा था। HDFC ने अपने शेयरहोल्डर्स के लिए डिविडेंड का ऐलान किया है। कंपनी प्रति शेयर 17.50 रुपए का डिविडेंड दे रही है।


वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में एचडीएफसी की आय 24.3 फीसदी बढ़कर 11,580 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में एचडीएफसी की आय 9,317 करोड़ रुपये रहा थी।


वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में एचडीएफसी की ब्याज आय 6 फीसदी बढ़कर 3,183.3 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में एचडीएफसी की ब्याज आय 3,001.8 करोड़ रुपये रहा थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में एचडीएफसी का ग्रॉस एनपीए 1.22 फीसदी से बढ़कर 1.18 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर कंपनी का इंडिविजुअल ग्रॉस एनपीए 0.68 फीसदी से बढ़कर 0.70 फीसदी रही है जबकि नॉन इंडिविजुअल ग्रॉस एनपीए 2.46 फीसदी से घटकर 2.34 फीसदी पर रही है।


तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में कंपनी का नेट इंटरेस्ट मार्जिन 3.5 फीसदी से घटकर 3.3 फीसदी पर ऱही है। जबकि सालाना आधार पर चौथी तिमाही में एचडीएफसी का लोन ग्रोथ 13.8 फीसदी पर रहा है। कंपनी ने चौथी तिमाही में 17.50 रुपये प्रति शेयर का अंतिम डिविडेड देने का एलान किया है।


नतीजों के बाद एचडीएफसी के वाइस चेयरमैन और सीईओ केकी मिस्त्री ने कहा कि मार्च में सस्ते घरों के लोन की डिमांड अच्छी रही है। इस अवधि में सस्ते घरों की लोन डिमांड 37 फीसदी रही है। 31 मार्च तक 5880 करोड़ रुपये की प्रोविजनिंग की गई है। आईएलएंडएफएस संकट से सिस्टम में नकदी की दिक्कत हुई है लेकिन एचडीएफसी ग्रुप को नकदी की कोई समस्या नहीं हुई।