ICICI Bank का मुनाफा दूसरी तिमाही में 6 गुना बढ़ा, NPA में भी आई कमी

ICICI Bank के प्रॉफिट में वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में जबरदस्त उछाल आया है, बैंक को Q2 में 4,251 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ है
अपडेटेड Nov 02, 2020 पर 08:58  |  स्रोत : Moneycontrol.com

प्राइवेट सेक्टर की अग्राणी बैंकों में से एक आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) के प्रॉफिट में वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में जबरदस्त उछाल आया है। बैंक को 30 सितंबर को खत्म Q2 में 4,251 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा (net profit) हुआ है। जबकि, पिछले साल की समान अवधि में बैंक को सिर्फ 654.96 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट हुआ था। ICICI Bank को इतना तगड़ा मुनाफा निवेश की बिक्री (sale of investments) और नेट इंटरेस्ट इनकम ( net interest income) में बढ़ोतरी के कारण हुआ है। साथ ही बैंक की एसेट क्लवालिटी () भी सुधरी है और NPA कम होकर 45,638 करोड़ रुपये से 38,989 करोड़ रुपये पर आ गया है।

सितंबर तिमाही में ICICI Bank का राजकोषीय इनकम (Treasury income) बढ़कर 542 करोड़ रुपये रक पहुंच गया है जो इसी अवधि में एक साल पहले 341 करोड़ रुपये था। इस तिमाही में बैंक ने ICICI Securities में अपनी 2% हिस्सेदारी बेची, जिससे बैंक को 305 करोड़ रुपये प्राप्त हुए। वहीं, सालाना आधार पर ICICI Bank के नेट इंटरेस्ट इनकम में 16% की बढ़ोतरी हुई और यह 8,57 करोड़ रुपये से बढ़कर 9366 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले बैंक के नेट इंटरेस्ट मार्जिन () में भी कमी आई है। 3.64% से कम होकर यह अब 3.57% पर आ गई है। यह कमी बैंक डिपोजिट के बढ़ने के कारण लिक्विडिटी बढ़ने और कोरोना के कारण कर्ज लेने वाले लोगों की कमी के कारण आई है।

Gross NPA कम हुआ

सितंबर तिमाही में ICICI Bank के एसेट क्वालिटी में सुधार हुआ है और इसका ग्रॉस नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (Gross NPA) 45,638 करोड़ रुपये से कम होकर 38,989 करोड़ रुपये पर आ गया है। कुल परिसंपत्तियों (total assets) के परसेंटेज में NPA अब 5.17% पर आ गया है जो वित्त वर्ष 2020-21 की पहली में 6.37% था। हालांकि, इस अवधि में ICICI Bank का नया बैड लोन (Bad Loans) 3,017 करोड़ रुपये हो गया है।  

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।