इंडसइंड बैंक का मुनाफा 62.2% घटा, एनपीए बढ़ा

चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक का मुनाफा 62.2 फीसदी घटकर 360.1 करोड़ रुपये रहा है।
अपडेटेड May 22, 2019 पर 14:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक का मुनाफा 62.2 फीसदी घटकर 360.1 करोड़ रुपये रहा है। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक का मुनाफा 953 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक की ब्याज आय 11.2 फीसदी बढ़कर 2,232.4 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक की ब्याज आय 2,007.6 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक का ग्रॉस एनपीए 1.13 फीसदी से बढ़कर 2.10 फीसदी और नेट एनपीए 0.59 फीसदी से बढ़कर 1.21 फीसदी रहा है।


रुपये में देखें तो तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में बैंक का ग्रॉस एनपीए 1968 करोड़ रुपये से बढ़कर 3947 करोड़ रुपये रहा है जबकि नेट एनपीए 1,029 करोड़ रुपये से बढ़कर 2,248 करोड़ रुपये रहा है।


तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में इंडसइंड बैंक की प्रोविजनिंग 78.7 करोड़ रुपये से बढ़कर 90.7 करोड़ रुपये रही है, जबकि पिछले साल इसी तिमाही में प्रोविजनिंग 86 करोड़ रुपये रही थी।


इंसडइंड बैंक के मैनेजमेंट का कहना है कि भारत फाइनेंशियल का मर्जर जल्द पूरा हो जाएगा। बैंक के एमडी और सीईओ रोमेश सोबती ने कहा है कि मर्जर के लिए सिर्फ NCLT की मंजूरी बाकी है जो कि जल्द मिल जाएगी।