एमएंडएम का मुनाफा 60% बढ़ा

प्रकाशित Fri, 08, 2019 पर 16:14  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम का मुनाफा 60 फीसदी बढ़कर 1476 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम का मुनाफा 920 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम की आय 12.2 फीसदी बढ़कर 12,892 करोड़ रुपये हो गयी है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम की आय 11492 करोड़ रुपये रही थी। सालाना आधार पर एमएंडएम का एबिटडा 1691 करोड़ रुपये से बढ़कर 1703 करोड़ रुपये हो गया। साल दर साल आधार पर एमएंडएम का एबिटडा  मार्जिन 14.7 फीसदी से घटकर 13.2 फीसदी हो गया है।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम की अन्य आय पिछले साल की तीसरी तिमाही के 103 करोड़ रुपये से बढ़कर 342 करोड़ रुपये हो गयी है। तीसरी तिमाही में एमएंडएम को 80 करोड़ रुपये का एकमुश्त घाटा हुआ है जबकि वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम को 386 करोड़ रुपये की एकमुश्त आय हुई थी। सालाना आधार पर एमएंडएम का टैक्स पर होने वाला खर्चा 425 करोड़ रुपये से घटकर 28.5 करोड़ रुपये रहा है।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम के ट्रैक्टर कारोबार की आय 13.1 फीसदी बढ़कर 4634 करोड़ रुपये हो गयी है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम के ट्रैक्टर कारोबार की आय 4098 करोड़ रुपये रही थी।सालाना आधार पर एमएंडएम के ट्रैक्टर कारोबार का एबिट 839 करोड़ रुपये से घटकर 888 करोड़ रुपये हो गया है। साल दर साल आधार पर एमएंडएम के ट्रैक्टर कारोबार का एबिट मार्जिन 20.4 फीसदी से घटकर 19.2 फीसदी हो गया है।


वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम के ऑटोमोटिव कारोबार की आय 11.3 फीसदी बढ़कर 7915 करोड़ रुपये हो गयी है। वित्त वर्ष 2018 की तीसरी तिमाही में एमएंडएम के ऑटोमोटिव कारोबार की आय 7113 करोड़ रुपये रही थी। सालाना आधार पर एमएंडएम के ऑटोमोटिव कारोबार का एबिट 598 करोड़ रुपये से घटकर 461 करोड़ रुपये हो गया है। साल दर साल आधार पर एमएंडएम के ऑटोमोटिव कारोबार का एबिट मार्जिन 8.4 फीसदी से घटकर 5.8 फीसदी हो गया है।