रिलायंस इंडस्ट्रीज को ₹10360 करोड़ का मुनाफा

प्रकाशित Thu, 18, 2019 पर 18:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चौथी तिमाही के नतीजे शानदार रहे हैं। वित्त वर्ष 2019 के चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का मुनाफा 1.1 फीसदी बढ़कर 10362 करोड़ रुपये रहा है। वित्त वर्ष 2019 के तीसरी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का मुनाफा 10251 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 के चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की आय 11.3 फीसदी घटकर 1.38 लाख करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2019 के तीसरी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की आय 1.56 लाख करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का एबिटडा 21317 करोड़ रुपये से घटकर 20832 करोड़ रुपये रहा है। तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का एबिटडा मार्जिन 13.63 फीसदी से बढ़कर 15.02 फीसदी रहा है।


पेटकेम


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की पेट्रो केमिकल कारोबार से होने वाली से आय 45619 करोड़ रुपये घटकर 42414 करोड़ रुपये रही है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज के पेट्रो केमिकल कारोबार की एबिट 8,221 करोड़ रुपये से घटकर 7,975 करोड़ रुपये हो गई है।


तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का पेटकेम एबिट मार्जिन 18 फीसदी से बढ़कर 18.8 फीसदी हो गई है।


रिफाइनिंग


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिफाइनिंग से होने वाली आय 1.11 लाख करोड़ रुपये से घटकर 87844 करोड़ रुपये रही है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का रिफाइनिंग एबिट 5055 करोड़ रुपये से घटकर 4176 करोड़ रुपये हो गई है।


तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का रिफाइनिंग एबिट मार्जिन 4.52 फीसदी से बढ़कर 4.75 फीसदी हो गई है।


रिटेल


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिटेल कारोबार से होनेवाली आय 35577 करोड़ रुपये से बढ़कर 36663 करोड़ रुपये रही है। तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिटेल कारोबार की एबिट 1512 करोड़ रुपये से बढ़कर 1721 करोड़ रुपये हो गई है।


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिटेल कारोबार की एबिट मार्जिन 4.25 फीसदी से बढ़कर 4.69 फीसदी हो गई है।


चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 30000 करोड़ रुपये जनरल रिजर्व में ट्रांसफर किए। कंपनी ने 6.50 रुपये प्रति शेयर डिविडेंड की भी घोषणा की है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बताया है कि 31 मार्च 2019 तक कंपनी पर 2.87 लाख करोड़ रुपये का कर्ज बकाया था जो कि पिछले साल की समान अवधि में 2.18 लाख करोड़ रुपये था।


रिलायंस जियो


वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में रिलायंस जियो का मुनाफा 1.1 फीसदी बढ़कर 840 करोड़ रुपये रहा है। वित्त वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में रिलायंस जियो का मुनाफा 830 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में रिलायंस जियो की आय 7 फीसदी बढ़कर 11,106 करोड़ रुपये पहुंच गई है जो कि पिछले तिमाही में 10,383 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस एबिडटा 4,053 करोड़ रुपये से बढ़कर 4,329 करोड़ रुपये हो गया है जबकि एबिटडा मार्जिन पिछले तिमाही के 39 फीसदी के स्तर पर ही बरकरार रही है।


तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस जियो की प्रति उपभोक्ता औसत आय (एआरपीयू) 130 रुपये से घटकर 126.20 रुपये रही है। चौथी तिमाही में रिलायंस जियो के उपभोक्ताओं की संख्या में अच्छी बढ़ोतरी देखने को मिली है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में कंपनी के उपभोक्ताओं की संख्या 28.01 करोड़ से बढ़कर 30.67 करोड़ हो गई है।


रिलायंस इंडस्ट्रीज के नतीजों पर कंपनी के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने खुशी जताते हुए कहा है कि रिलायंस रिटेल की आय 1 लाख करोड़ के पार पहुंच गई है, वहीं जियो के साथ 30 करोड़ ग्राहक जुड़े।


उन्होंने कहा है कि एनर्जी मार्केट में उतार-चढ़ाव के बावजूद कंपनी को कुल 39588 करोड़ का मुनाफा हुआ है। जबकि पिछले 5 सालों में कंपनी का पीबीडीआइटी दोगुना होकर 92,656 करोड़ पर पहुंचा है। सर्विस और ग्राहक की संतुष्टी पर फोकस की वजह से कंज्यूमर बिजनेस की तरफ ज्यादा सब्सक्राइबर और ग्राहक बढ़े, जिससे आय में अच्छी ग्रोथ हुई है।


रिलायंस इंडस्ट्रीज के सीएफओ आलोक अग्रवाल ने रिटेल और टेलीकॉम सेक्टर में अच्छी ग्रोथ का भरोसा जताया है।


डिस्क्लोजरः मनीकंट्रोल डॉट कॉम रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है। नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है।