SBI Q4: मुनाफा 4 गुना बढ़कर 3,581 करोड़ रुपये पर पहुंचा

चौथी तिमाही में एसबीआई का मुनाफा 3,581 करोड़ रुपये और ब्याज आय 22,766 करोड़ रुपये रही है।
अपडेटेड Jun 06, 2020 पर 15:36  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

SBI ने आज अपने चौथी तिमाही के नतीजे जारी कर दिए हैं जिसके मुताबिक SBI द्वारा अपनी सब्सिडियरी एसबीआई कार्ड एंड पेमेंट सर्विसेस में हिस्सेदारी बेचने से मुनाफे में जोरदार उछाल आया है। चौथी तिमाही भारत के सबसे बड़े बैंक एसबीआई का मुनाफा 4 गुना बढ़कर 3,581 करोड़ रुपये रहा है जो कि पिछले साल की इसी तिमाही में 838.4 करोड़ रुपये रहा था।


सालाना आधार पर देखें तो कंपनी की ब्याज आज 0.8 फीसदी की गिरावट आई है। मार्च 2020 में समाप्त चौथी तिमाही में कंपनी की ब्याज आय 22,766 करोड़ रुपये रही है। चौथी तिमाही में कंपनी की लोन ग्रोथ 6.4 फीसदी के निम्न स्तर पर रही है जिसकी वजह से ब्याज आय में कमजोरी देखने को मिली है।


बैंक के नेट मुनाफे में चौथी तिमाही में एसबीआई कार्ड में  हिस्सेदारी बिक्री से प्राप्त 2,731.34 करोड़ रुपये की राशि भी शामिल है जिसकी वजह से चौथी तिमाही में बैंक के मुनाफे में 4 गुना का उछाल देखने को मिला है।


तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में बैंक का ग्रॉस NPA 6.94 फीसदी से घटकर 6.15 फीसदी रहा है और नेट NPA पिछली तिमाही के 2.65 फीसदी से घटकर 2.23 फीसदी रहा है।


रुपये में देखें तो तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में एसबीआई का ग्रॉस NPA 1.59 लाख करोड़ रुपये से घटकर 1.49 लाख करोड़ रुपये रहा है। वहीं नेट NPA 58,249 करोड़ रुपये से घटकर 51,871 करोड़ रुपये रहा है।


तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में एसबीआई की प्रोविजनिंग 7,253 करोड़ रुपये से बढ़कर  13,495 करोड़ रुपये रही है। सालाना आधार पर चौथी तिमाही में एसबीआई की प्रोविजनिंग 16,502 करोड़ रुपये से घटकर 13,495 करोड़ रुपये रही है।


SBI के चेयरमैन रजनीश कुमार में नतीजों के बाद सीएनबीसी आवाज़ से बात करते हुए कहा कि 21.8 फीसदी ग्राहकों ने Moratorium की सुविधा ली है। कॉरपोरेट लोन बुक पर करीब 78 फीसदी प्रोविजनिंग की गई है। उन्होंने बताया कि 8,000 करोड़ रुपये के नए एनपीए हुए हैं। कोरोना संकट में बैंक की 98 फीसदी शाखाओं में कामकाज हुआ हुआ है। चौथी तिमाही में डिपॉजिट और लोन में बैंक का मार्केट शेयर बढ़ा है। SBI का बैलेंस शीट बेहद मजबूत है। हम भविष्य में किसी भी चुनौती से निपटने को तैयार हैं।





सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।