Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू

बाजार की तेजी के बावजूद इन 3 शेयरों में है मौका, मिलेगा 34% रिटर्न

मौजूदा ट्रेंड पिछले साल से बिल्कुल उलट है। तब निफ्टी 12.5 फीसदी बढ़ चुका था जबकि मिडकैप इंडेक्स 5 फीसदी और स्मॉलकैप इंडेक्स 16 फीसदी गिर चुका था
अपडेटेड Jun 03, 2019 पर 13:45  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पिछले 15 दिनों में ना सिर्फ बेंचमार्क सूचकांक में तेजी आई है बल्कि समूचे बाजार में बढ़त देखने को मिली है। 15 मई से अब तक निफ्टी और सेंसेक्स अपने ऑल टाइम हाई पर ट्रेड कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ मिडकैप इंडेक्स 8 फीसदी और स्मॉलकैप 9 फीसदी तक बढ़ चुका है।


मौजूदा ट्रेंड पिछले साल से बिल्कुल उलट है। तब निफ्टी 12.5 फीसदी बढ़ चुका था जबकि मिडकैप इंडेक्स 5 फीसदी और स्मॉलकैप इंडेक्स 16 फीसदी गिर चुका था।


रेलिगेयर ब्रोकिंग के प्रेसिडेंट (रिटेल डिस्ट्रीब्यूशन) जयंत मांगलिक का कहना है कि बेंचमार्क सूचकांक अपने पीक वैल्यूएशन पर ट्रेड कर रहे हैं। जबकि दूसरी तरफ मिडकैप इंडेक्स अभी अपने पीक लेवल से 18 फीसदी नीचे है। लिहाजा इसमें तेजी की काफी संभावनाएं बाकी हैं.


जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड ऑफ रिसर्च विनोद नायर का भी यही मानना है। उनका कहना है कि मिड और स्मॉल कैप का वैल्यूएशन अभी अपने लॉन्ग टर्म एवरेज से कम है। इसके मुताबिक अभी इसमें तेजी की काफी संभावनाएं हैं।


मौजूदा दौर में आप इन 3 शेयरों में निवेश करके मौके का फायदा उठा सकते हैं।


ब्रोकरेज फर्म- IDBI कैपिटल


Cera Sanitaryware


टारेगट 3471 रुपए
रिटर्न 16 फीसदी


यह देश का सबसे बड़ा बाथरूम सॉल्यूशंस प्रोवाइडर है। ऑर्गेनाइज्ड सैनिटीवेयर मार्केट में जो तीन सबसे बड़ी कंपनियां हैं उसमें से यह नंबर वन है। इसकी मार्केट हिस्सेदारी 15 फीसदी है। इसमें निवेश से प्रॉफिट हो सकता है।


ब्रोकरेज फर्म- SMC ग्लोबल इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज


Hi-Tech Pipes


टारेगट- 410 रुपए
रिटर्न- 27 फीसदी


SMC ग्लोबल इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज के मुताबिक, Hi-Tech Pipes का वैल्यूएशन इसकी प्रतिद्वंदी कंपनियों के मुकाबले कम है। कंपनी का मैनेजमेंट बेहतर और बैलेंस शीट मजबूत है। इसमें 27 फीसदी रिटर्न के लिए अभी निवेश कर सकते हैं।


ब्रोकरेज फर्म- वेंचुरा सिक्योरिटीज


Welspun Corp


टारेगट- 192 रुपए
रिटर्न- 34 फीसदी


इंडिया, अमेरिका और सऊदी अरब में Welspun Corp का परफॉर्मेंस मजबूत रह सकता है। फिस्कल ईयर 2019 में कंपनी के सऊदी अरब के बिजनेस का EBITDA बेहतर रह सकता है। कंपनी के अमेरिकी बिजनेस में भी नेटफ्लो बढ़ सकता है। लिहाजा आने वाले साल में कंपनी का बिजनेस बढ़ाने की जिम्मेदारी सिर्फ भारतीय कारोबार की नहीं रह जाएगी।