Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

ये हैं दमदार शेयर, भारी ग्रोथ की है संभावना

सीएनबीसी-आवाज़ की टीम ने की है खास रिसर्च और लेकर आए हैं दमदार शेयर -
अपडेटेड Dec 19, 2017 पर 12:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

गुजरात चुनाव के बाद अब बाजार का फोकस बजट पर आ टिका है। जानकारों की मानें तो बजट में इस बार मोदी सरकार का फोकस गांवों की इकोनॉमी सुधारने पर होगा। ऐसे में बाजार के फोकस में अभी से कृषि से जुड़ी कंपनियां आ गई हैं। लेकिन इस भीड़ में किस कंपनी में है वैल्यु इस पर सीएनबीसी-आवाज़ की टीम ने की है खास रिसर्च और लेकर आए हैं ऐसे ही दमदार शेयर जिनमें भारी ग्रोथ की संभावना है और इनका वैल्युएशन भी कम है।


एनएसीएल इंडस्ट्रीज


एनएसीएल इंडस्ट्रीज, नागर्जुना ग्रुप की कंपनी है और यह कीटनाशक के कारोबार में बड़ी कंपनी है। एनएसीएल इंडस्ट्रीज पहले नागर्जुना एग्रीकेम से नाम से जानी जाती थी। एनएसीएल इंडस्ट्रीज में प्रोमोटर की 74.70 फीसदी हिस्सेदारी है।


साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2017 में एनएसीएल इंडस्ट्रीज की आय 793 करोड़ रुपये से 12.5 फीसदी बढ़कर 892 करोड़ रुपये रही थी। सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2017 में एनएसीएल इंडस्ट्रीज का मुनाफा 9.74 करोड़ रुपये से 280 फीसदी बढ़कर 37.1 करोड़ रुपये रहा था। सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2017 में एनएसीएल इंडस्ट्रीज का एबिटडा 74.5 करोड़ रुपये से 38 फीसदी बढ़कर 103.1 करोड़ रुपये रहा था। एनएसीएल इंडस्ट्रीज का वैल्युएशन भी काफी आकर्षक नजर आ रहा है। एनएसीएल इंडस्ट्रीज का ईपीएस 2.37 रुपये है, जबकि ट्रेलिंग पी/ई 18.5 गुना के आसपास है।


एनएसीएल इंडस्ट्रीज के लिए ग्रोथ की काफी संभावनाएं नजर आ रही हैं। दरअसल कीटनाशकों की मांग तेजी से बढ़ रही है और कीटनाशकों का बाजार असंगठित से संगठित की तरफ बढ़ रहा है। दुनिया के बाजारों में भी भारतीय कंपनियों का दबदबा बढ़ा है। 2020 तक कई कीटनाशकों के पेटेंट खत्म होंगे और पेटेंट खत्म होने से भारतीय कंपनियों के लिए मौके बढ़ेंगे। साथ ही कीटनाशक बनाने वाली कंपनियों को सरकार का गांवों की तरफ फोकस बढ़ने से भी फायदा मिलेगा।


मद्रास फर्टिलाइजर


मार्च 2019 तक कंपनी के मुनाफे में आने की उम्मीद है। कंपनी मार्च 2014 से लगातार घाटे में चल रही है, लेकिन कंपनी ने सरकार को रिवाइवल प्लान सौंपा है। कंपनी सरकारी कर्ज की रीस्ट्रक्चरिंग चाहती है। कंपनी ने 1000 करोड़ रुपये के कर्ज माफ करने की मांग की है।


सुप्रजीत इंजीनियरिंग


सुप्रजीत इंजीनियरिंग, ऑटोमोटिव केबल क्षेत्र की ग्लोबल लीडर है। देश की सबसे बड़ी ऑटोमोटिव केबल कंपनी है। टू-व्हीलर केबल के क्षेत्र में 65 फीसदी मार्केट शेयर है। वहीं सुप्रजीत इंजीनियरिंग को फीनिक्स लैंप्स के मर्जर फायदा होने की उम्मीद है। यही नहीं सुप्रजीत इंजीनियरिंग ऑटोमोटिव लाइटिंग क्षेत्र में दिग्गज कंपनी बन गई है। सुप्रजीत इंजीनियरिंग के सबसे बड़े ग्राहकों में टीवीएस मोटर और होंडा मोटरसाइकिल्स हैं।


साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2017 में सुप्रजीत इंजीनियरिंग का मुनाफा 39 फीसदी बढ़ा था, जबकि आय में 27.5 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी। सुप्रजीत इंजीनियरिंग में प्रोमोटर की 44.48 फीसदी हिस्सेदारी है, जबकि कंपनी में टीवीएस मोटर का 2.07 फीसदी हिस्सा है।


मनपसंद बेवरेजेज


मनपसंद बेवरेजेज की 55 फीसदी आय ग्रामीण क्षेत्र से आती है। कंपनी ग्रामीण क्षेत्र में डिस्ट्रीब्यूशन बढ़ा रही है। पिछले 1 साल में मनपसंद बेवरेजेज के रुरल आउटलेट्स बढ़कर दोगुने हुए हैं। मनपसंद बेवरेजेज ने डिस्ट्रीब्यूशन के लिए पारले के साथ करार किया है। मनपसंद बेवरेजेज वड़ोदरा, वाराणसी, श्री सिटी में नए प्लांट लगा रही है। कंपनी के मैंगो सिप और फ्रूट अप ब्रांड की अच्छी ग्रोथ देखने को मिल रही है।