Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

बुलंद भारत के बुलंद शेयर, भविष्य के सुपर स्टार

प्रकाशित Fri, 16, 2018 पर 13:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

भारत तेजी से बढ़ रहा है और उससे तेजी से बढ़ रही हैं यहां की कंपनियां। विकास की इस दौड़ में देसी हो या विदेशी कई कंपनियों ने निवेशकों को मालामाल कर दिया है। बाजार की इस रैली में जो निवेशक पीछे छूट गए हैं उनके लिए मौके अब भी मौजूद हैं। हमारी खास पेशकश फ्यूचर स्टॉक्स ऑफ इंडिया में आज हम आपको बताएं ऐसे 10 दमदार शेयर जो बदलते वक्त के साथ अपने बिजनेस को बदल रहे हैं, नई थीम को पकड़ रहे है। और इनमें अब भी आपको मालामाल बनाने का दमखम बाकी है।


बॉम्बे डाइंग


बॉम्बे डाइंग को रियल एस्टेट और टेक्सटाइल कारोबार के डीमर्जर से फायदा होने की उम्मीद है। महाराष्ट्र सरकार ने कंपनी की कुछ जमीन ली है और इसके एवज में अच्छे मुआवजे की उम्मीद है। कंपनी के रियल एस्टेट कारोबार में अच्छी ग्रोथ देखने को मिल रही है। हाल में सोसाइटी जनरल ने बॉम्बे डाइंग के 12.68 लाख शेयर 215.98 रुपये प्रति शेयर के भाव पर खरीदे हैं।


3एम इंडिया


3एम इंडिया, कंज्यूमर टेक्नोलॉजी की ग्लोबल कंपनी है। कंपनी हेल्थकेयर, पावर, ऑटो, सेफ्टी और इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट बनाती है। 3एम इंडिया भारत में तेजी से कारोबार का विस्तार कर रही है। कंपनी ने हाल में क्षमता विस्तार का एलान किया है। कंपनी की बैलेंसशीट काफी मजबूत है और यह पूरी तरह कर्ज मुक्त है। पिछले 5 सालों से कंपनी ने करीब 30 फीसदी की प्रॉफिट ग्रोथ दर्ज की है, जबकि पिछले 5 सालों में मार्जिन 6.3 फीसदी से बढ़कर 18.15 फीसदी पर पहुंच गया है।


डीएचएफएल


डीएचएफएल को अफोर्डेबल हाउसिंग पर फोकस से फायदा मिलने की उम्मीद है। कंपनी का छोटे साइज के हाउसिंग लोन पर फोकस है और छोटे शहरों में मजबूत पकड़ भी है। तीसरी तिमाही में कंपनी ने 10,846 करोड़ रुपये के लोन बांटे हैं। तीसरी तिमाही में कंपनी के मुनाफे में 25 फीसदी का उछाल देखने को मिला है, जबकि आय 30 फीसदी बढ़ी है। कंपनी के एसेट क्वालिटी को लेकर दिक्कत नहीं है और ग्रॉस एनपीए 1 फीसदी के नीचे स्थिर है।


एडेलवाइस


एडेलवाइस, डाइवर्सिफाइड फाइनेंशियल सर्विस कंपनी है। एडेलवाइस की ब्रोकिंग, वेल्थ मैनेजमेंट और इंश्योरेंस कारोबार में मजबूत पकड़ है। वहीं एनपीए पर आरबीआई के नए नियम एसेट रीकंस्ट्रक्शन कंपनियों के लिए फायदेमंद साबित होने वाला है। देश की सबसे बड़ी एआरसी कंपनी की सब्सिडियरी है। बाजार में ऐसी अटकलें भी हैं कि एडेलवाइस जल्द ही प्राइवेट बैंक भी शुरू कर सकती है।


फ्यूचर कंज्यूमर


फ्यूचर कंज्यूमर, रिटेल किंग किशोर बियानी की कंपनी है। फ्यूचर कंज्यूमर का कारोबार सोर्सिंग, मैन्युफैक्चरिंग और डिस्ट्रिब्यूशन से जुड़ा है। फ्यूचर कंज्यूमर को 10 गुना बढ़ाना किशोर बियानी का लक्ष्य है। फ्यूचर कंज्यूमर लगातार नए और अनोखे प्रोडक्ट लॉन्च कर रही है। मॉर्गन स्टैनली के मुताबिक वित्त वर्ष 2021 तक फ्यूचर कंज्यूमर 5वीं दिग्गज एफएमसीजी कंपनी होगी।


अशोक लेलैंड


अशोक लेलैंड के तीसरी तिमाही के नतीजे शानदार रहे हैं। 11 में से 10 तिमाहियों में कंपनी का मार्जिन 10 फीसदी से ज्यादा रहा है। सरकारी पॉलिसी में बदलाव से कंपनी को काफी फायदा मिलेगा। साथ ही व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी लागू होने पर भी फायदा होगा। अशोक लेलैंड का 5 साल में एक्सपोर्ट वॉल्यूम 33 फीसदी करने का लक्ष्य है।


हनीवेल ऑटो


हनीवेल ऑटो, बिजनेस प्रॉसेस ऑटोमेशन और टेक्नोलॉजी कंपनी है। कंपनी तेल-गैस, इंडस्ट्रियल और एविएशन ऑटोमेशन की लीडर है। कंपनी के भारत में 7 मैन्युफैक्चरिंग यूनिट और 5 ग्लोबल टेक सेंटर हैं। कंपनी पूरी तरह कर्ज मुक्त है और पिछले 10 साल से 12 फीसदी की सेल्स ग्रोथ दर्ज कर रही है। पिछले 5 सालों में मार्जिन 7.16 फीसदी से बढ़कर 13.3 फीसदी रहा है।


एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ


एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ, बेहद मजबूत पैरेंटेज वाली कंपनी है और इस कंपनी के एचडीएफसी ग्रुप का अगला मल्टीबैगर बनने की उम्मीद है। भारत में इंश्योरेंस का दायरा बढ़ने पर कंपनी को फायदा मिलेगा। इंश्योरेंस सेगमेंट में एलआईसी का दबदबा घटने का भी फायदा मिलेगा। कंपनी लगातार नए प्रोडक्ट लाने पर फोकस कर रही है। बड़ी प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियों में एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ का मार्जिन सबसे बेहतर है।


अमारा राजा बैटरीज


अमारा राजा बैटरीज, गाड़ियों में लगने वाली बैटरी बनाती है और घरेलू बैटरी बाजार में कंपनी का दबदबा है। कंपनी का 3 साल में 4-व्हीलर बाजार में 40 फीसदी मार्केट शेयर का लक्ष्य है। 2-व्हीलर में मार्केट शेयर 11 फीसदी से बढ़ाकर 45 फीसदी करने का लक्ष्य है। अगले कुछ सालों में क्षमता बढ़ाकर दोगुनी करने पर फोकस है। अगले 10 सालों में आय 10 गुना बढ़ाने का लक्ष्य है।


कोचीन शिपयार्ड


कोचीन शिपयार्ड को भारतीय नौसेना से लगातार बड़े ऑर्डर मिल रहे हैं। 10 साल में नौसेना से 42 अरब डॉलर के ऑर्डर मिलने की उम्मीद है। कोचीन शिपयार्ड मजबूत फंडामेंटल और कर्ज मुक्त कंपनी है। कोचीन शिपयार्ड शिप रिपेयर कारोबार में भी अग्रणी है।