Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

Corona Impact: बाजार में भारी गिरावट की उम्मीद, ऐसे में क्या होनी चाहिए आपकी रणनीति

निवेशकों को डर है कि आज भी बाजार में कोरोना का कहर जारी रहेगा और बाजार में तेज गिरावट देखने को मिलेगी।
अपडेटेड Mar 13, 2020 पर 12:56  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ग्लोबल बाजार आज फिर भारतीय शेयर बाजार में तेज गिरावट के संकेत दे रहे हैं। कल की गिरावट में BSE का 10 लाख करोड़ रुपये का मार्केट कैप साफ हो गया। कल के कारोबार में सेंसेक्स और बैंक निफ्टी 2 साल के निचले स्तर पर बंद हुए थे जबकि निफ्टी करीब 3 साल के निचले स्तर पर बंद हुआ था। निवेशकों को डर है कि आज भी बाजार में कोरोना का कहर जारी रहेगा और बाजार में तेज गिरावट देखने को मिलेगी। ऐसे में बाजार में किस तरह की रणनीति बनानी चाहिए। आइए जानते हैं बाजार के जानकारों से।


जानकारों का कहना है कि निवेशक गिरते बाजार से डर कर अच्छे क्वालिटी शेयरों को ना बेचें। निवेशक अपनी SIP जारी रखें। इस गिरते बाजार में अच्छे क्वालिटी शेयर को चुन उनमें निवेश करें क्योंकि गिरते बाजार में पोर्टफोलियो बनाने का अच्छा मौका है जो आगे चलकर निवेशकों को तगड़ा मुनाफा देगे। साथ ही जानकारों का कहना है कि खराब शेयरों में जबरदस्ती ना बने रहें। उन खराब शेयरों से घाटे की परवाह किए बिना उन शेयरों से निकल जाएं।
 
वहीं जानकारों के मुताबिक कोरोना के डर से बाजार में PANIC ना करें। हालांकि इस गिरते बाजार में F&O में ट्रेडिंग करने से बचना चाहिए। अगर बाजार GAPDOWN पर खुले तो हीरो नहीं बने।


क्यों टूट रहे हैं शेयर बाजार


वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO)   ने बुधवार को COVID-19 (Coronavirus) को महामारी (Pandemic) घोषित कर दिया है। इस वायरस से करीब 110 देश प्रभावित हुए है। कोरोना वायरस के कहर से ग्लोबल बाजारों में तेज गिरावट देखने को मिली है। Dow Jones अपनी ऊंचाई से 29% नीचे फिसल गया है। वहीं बाजार को FIIs की भारी बिकवाली झेलनी पड़ रही है। सिर्फ 8 दिनों में बाजार से FIIs ने 24,306 करोड़ के शेयर बेचे है। इधर कोरोना वायरस के डर से US ने UK को छोड़ बाकी यूरोप पर ट्रैवल बैन लगाया है। कोरोना का कहर दुनिया की इकोनॉमी में भारी मंदी के संकेत दे रहा है।


जानकारों के अनुसार फिलहाल कोरोना के कहर से बाजार में ऑप्शन, टेक्निकल आंकड़े किसी काम के नहीं है। ऐसे में बाजार अगर GAPDOWN से खुलता है तो नए शॉर्ट बनाने से बचना ही समझदारी होगी।


निफ्टी में कब लगता है सर्किट


अगर बाजार के खुलने के बाद निफ्टी 1 बजे तक  9413 का स्तर छू लेता है तो मार्केट में पहला सर्किट लगता है और इस सर्किट के बाद  ट्रेडिंग 45 मिनट के लिए होल्ड कर दी जाती है। वहीं अगर 1 बजे के बाद और 2 बजे से पहले निफ्टी 8869 के स्तर पर जाता है तो 1 घंटा 45 मिनट के लिए ट्रेडिंग बंद कर दी जायेगी और दूसरा लोअर सर्किट लगेगा।


वहीं 2 बजे के बाद अगर निफ्टी 8366 के स्तर पर आ जाता है तो  तो इस स्थिति में ट्रेडिंग बचे हुए पूरे दिनभर के लिए बंद कर दी जायेगी।


PLEDGE शेयरों से रहें दूर


हम आपको बता रहे है कुछ ऐसे शेयर जहां पर प्रमोटर्स की हिस्सेदारी कम है और गिरवी रखें हुए शेयर ज्यादा है। ऐसे में इन शेयरों में मौजूदा समय में किसी तरह की पोजिशन ना लेना ही फायदेमंद होगा।


GMR INFRA: कंपनी में 63.6% प्रोमोटर की होल्डिंग है जबकि 72.3% हिस्सेदारी गिरवी है।


MAX FINANCIAL: कंपनी में प्रोमोटर की होल्डिंग 28.31% है जबकि 71.54% हिस्सा गिरवी है।


APOLLO HOSPITALS: कंपनी में 30.8% प्रोमोटर की होल्डिंग है जबकि 67.33% हिस्सेदारी गिरवी है।


JSPL: कंपनी में प्रोमोटर की 60.4% होल्डिंग है जबकि 65.58% हिस्सा गिरवी है। ये गिरवी हिस्सेदारी साल 2012 से रखी गई है।


TORRENT PHARMA OR TORRENT POWER:  TORRENT PHARMA में प्रोमोटर की 71.25% हिस्सेदारी होल्डिंग है जबकि 36.49% हिस्सेदारी गिरवी है जबकि TORRENT POWER में प्रोमोटर की 53.57% हिस्सेदारी होल्डिंग है जबकि 48.54% हिस्सेदारी गिरवी है।


ADANI PORTS: कंपनी में 62.46% प्रोमोटर की होल्डिंग है जबकि 36.41% हिस्सेदारी गिरवी है।


NCC: कंपनी में 18.11% प्रोमोटर की होल्डिंग है जबकि 36.37% हिस्सेदारी गिरवी है।


JSW STEEL: कंपनी में 42.33% प्रोमोटर की होल्डिंग है जबकि 32.52% हिस्सेदारी गिरवी है।


ADANI ENT: कंपनी में 74.92% प्रोमोटर की होल्डिंग है जबकि 30.11% हिस्सेदारी गिरवी है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।