Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

Q4 में कैसे रहे कंपनियों के नतीजे, कौन हुआ पास, कौन हुआ फेल

तिमाही नतीजे ना सिर्फ कंपनी के प्रदर्शन के बारे में बताते हैं, बल्कि इकोनॉमी का भी बैरोमीटर होते हैं।
अपडेटेड Jul 08, 2020 पर 07:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

चौथी तिमाही के नतीजों का मौसम खत्म हो चुका है। अब नतीजों से मिल रहे संकेतों को समझने का समय है। तिमाही नतीजे ना सिर्फ कंपनी के प्रदर्शन के बारे में बताते हैं, बल्कि इकोनॉमी का भी बैरोमीटर होते हैं। चौथी तिमाही के आंकड़े से इकोनॉमी की तस्वीर साफ होगी।


साथ ही, हमें ये पता चलेगा कि कौन अच्छे अंकों से पास हुआ और कौन सी कंपनी फिसड्डी साबित हुई, तो चलिए Q4 के REPORT CARD पर चर्चा करते हैं ताकि आगे के लिए सॉलिड स्ट्रैटेजी बनाई जा सके।


इस विशेष शो में सीएनबीसी-आवाज़ के साथ चर्चा करने के लिए William O Neil के मयुरेश जोशी और Geojit Financial Services के गौरांग शाह जुड़ गये हैं।


इंडस्ट्री का Q4 Report Card


चौथी तिमाही में कुल मिलाकर कंपनियों के नतीजे कमजोर रहे। कमाई में गिरावट देखने को मिली।


कुल मिलाकर कंपनियों के नतीजों पर नजर डाली जाये तो सेल्स में 5.1 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली। एबिटडा में 4.8 प्रतिशत की गिरावट रही। वहीं PBT में 28 प्रतिशत और PAT में 20 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है।


चौथी तिमाही के रिपोर्ट कार्ड में मैनेजमेंट कमेंट्री में श्रमिकों की कमी, लॉकडाउन का असर, सप्लाई चेन की स्थिति और महीने दर महीने डिमांड में सुधार पर फोकस रहा।


चौथी तिमाही में ऑटो, ऑयल एंड गैस के कारण मुनाफे पर दबाव बना रहा। वहीं मेटल, निजी बैंक और NBFCs ने भी दबाव बनाया।


FINANCIALS SECTOR का Q4  Report Card


चौथी तिमाही में FINANCIALS की नतीजों से ज्यादा Moratorium पर नजर  रही है। एसेट क्वालिटी और डिमांड रिवाइवल पर फोकस रहा है।


BANKS की चौथी तिमाही की रिपोर्ट पर नजर डालें तो सालाना आधार पर बैंकों की लोन ग्रोथ पर नजर डालें को HDFC BANK की लोन ग्रोथ 21 प्रतिशत, AXIS BANK कीम 15 प्रतिशत, ICICI BANK की 10 प्रतिशत और SBI की 06 प्रतिशत रही।


चौथी तिमाही मे मोरेटोरियम के आंकड़ों पर नजर डालें तो HDFC BANK में 89 प्रतिशत, AXIS BANK में 28 प्रतिशत, ICICI BANK में 30 प्रतिशत और SBI में 22 प्रतिशत रहा।


मयुरेश जोशी की टॉप पिक्स-  HDFC BANK


गौरांग शाह की टॉप पिक्स-  HDFC BANK



IT SECTOR का Q4  Report Card


IT SECTOR में चौथी तिमाही में रेवेन्यू ग्रोथ कमजोर रही है। डिमांड, सप्लाई की चुनौतियों से आय पर असर हुआ है।


तिमाही आधार पर IT Sector की टॉप कंपनियों की डॉलर में रेवन्यू ग्रोथ पर नजर डालें तो TCS की ग्रोथ में 2.5 प्रतिशत की गिरावट रही जबकि मार्जिन 10 बीपीएस ऊपर रहा। Infosys की ग्रोथ 1.40 प्रतिशत की गिरावट रही जबकि मार्जिन में भी 70 Bps की गिरावट रही। Wipro की बात करें तो इसकी ग्रोथ में 1 प्रतिशत की गिरावट रही जबकि मार्जिन में भी 80 Bps की गिरावट रही।


मयुरेश जोशी की टॉप पिक्स-  TCS और HCL TECH


गौरांग शाह की टॉप पिक्स- NIIT TECH


FMCG SECTOR का Q4  Report Card


कोरोना के कारण FMCG सेक्टर के नतीजे अनुमान से कमजोर रहे हैं। इस सेक्टर में वाल्यूम के आधार पर परफॉर्मेंस पर नजर डालें तो HUL में 7 प्रतिशत की गिरावट रही और ITC में 11 प्रतिशत की गिरावट रही।


मयुरेश जोशी की टॉप पिक्स-  NESTLE


गौरांग शाह की टॉप पिक्स- HUL


AUTO SECTOR का Q4 Report Card


सालाना आधार पर इस सेक्टर में रेवेन्यू में कुल मिलाकर 24 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है। कमजोर डिमांड, BS VI लागू होने से इस सेक्टर पर दबाव बढ़ा है और लॉकडाउन के कारण प्रदर्शन पर असर दिखाई दिया है।


गौरांग शाह की टॉप पिक्स- ESCORTS


मयुरेश जोशी की टॉप पिक्स-  hero moto और bajaj auto


PHARMA SECTOR का Q4  Report Card


इस सेक्टर ने चौथी तिमाही में मजबूत प्रदर्शन किया है। इसके अलावा इस सेक्टर के तीसरी तिमाही में नतीजे अच्छे रहे थे।


फार्मा सेक्टर की टॉप कंपनियों के प्रदर्शन पर नजर डाले तों तो सालाना आधार पर चौथी तिमाही में  DR REDDYS के रेवन्यू में 10 प्रतिशत की बढ़त और एबिटडा में 15 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिली है।


सालाना आधार पर चौथी तिमाही में  CIPLA के रेवन्यू में 0.6 प्रतिशत की गिरावट और एबिटडा में 34 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है। सालाना आधार पर चौथी तिमाही में LUPIN के रेवन्यू में 1 प्रतिशत की गिरावट और एबिटडा में 33 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है।


मयुरेश जोशी की टॉप पिक्स-  CIPLA


गौरांग शाह की टॉप पिक्स- ALEMBIC PHARMA


METALS SECTOR का Q4 Report Card
 
मेटल सेक्टर की कंपनियों के नतीजे कमजोर रहे हैं। हालांकि ज्यादातर कंपनियों के नतीजे उम्मीद से बेहतर भी रहे हैं।
मेटल सेक्टर की टॉप कंपनियों के प्रदर्शन पर नजर डाले तों तो सालाना आधार पर चौथी तिमाही में TATA STEEL के रेवन्यू में 20 प्रतिशत की गिरावट और एबिटडा में 38 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है।


सालाना आधार पर चौथी तिमाही में HINDALCO के रेवन्यू में 19 प्रतिशत की गिरावट और एबिटडा में 29 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिली है। सालाना आधार पर चौथी तिमाही में JSW STEEL के रेवन्यू में 20 प्रतिशत की गिरावट और एबिटडा में 33 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है।


गौरांग शाह की टॉप पिक्स- JSW STEEL 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।