Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

जानिये क्या कहते हैं शेयर बाजार के सितारे, मुनाफे की कुंडली समझिए और चमकाइये पोर्टफोलियो

बहुत से लोग मानते हैं कि सितारों का हमारी जिंदगी में काफी दखल होता है। सितारे जब अच्छे होते हैं तो सब मंगलमय होता है, अगर सितारे कमजोर हुए तो मुश्किलें बढ़ती हैं।
अपडेटेड Jun 06, 2020 पर 13:45  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोरोना, चक्रवात, भूकंप इन दिनों ये शब्द सबसे ज्यादा सुनाई दे रहे हैं। ऐसा लगता है कि इस वक्त ग्रह-नक्षत्र खराब चल रहे हैं और हम बेहद बुरे दौरे से गुजर रहे हैं। बहुत से लोग मानते हैं कि सितारों का हमारी जिंदगी में काफी दखल होता है। सितारे जब अच्छे होते हैं तो सब मंगलमय होता है, अगर सितारे कमजोर हुए तो मुश्किलें बढ़ती हैं। अब सवाल ये है कि संकट का ये दौर कब खत्म होगा, ग्रहों की दशा और दिशा कब बलदेगी। क्योंकि जिंदगी हो या शेयर मार्केट, हर जगह सफलता के लिए शुभ संयोग की जरुरत होती है।


आज सीएनबीसी-आवाज के इस विशेष शो बाजार पर ग्रहण में समझते हैं कि आगे का संयोग आपकी जिंदगी और पोर्टफोलियो के लिए कैसा रहने वाला है। इस शो में इस खास चर्चा के लिए सीएनबीसी-आवाज़ के साथ Jyotishdham की Astrologer Richa Pathak और Argha Martand के Devendra Chaturvediजुड़ गये हैं।


अब तक दुनिया पर आफत की घटनाएं


दुनिया पर आफत की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में आग से तबाही रही है। भारत में दंगे जैसी घटनाएं देखने को मिली है। भारत समेत कई देशों में टिड्डी दल का अटैक भी महसूस किया गया। हाल ही में भारत में चक्रवाती तूफान से आफत आई है जबकि दुनिया भर में कोरोना वायरस का संक्रमण अभी जारी है।


कब-कब है ग्रहण


आज यानी 5 जून 2020 को चंद्र ग्रहण है। ये साल का दूसरा चंद्र ग्रहण है जो भारत, यूरोप, अफ्रीका, एशिया और आस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। इसके बाद 21 जून 2020 को सूर्य ग्रहण है। सुबह 9:15 बजे से दोपहर 3:03 बजे तक इसका प्रभाव रहेगा। ये ग्रहण भारत, दक्षिण पूर्व यूरोप और एशिया में दिखाई देगा।


इसके पश्चात 5 जुलाई 2020 चंद्र ग्रहण लगेगा जो कि सुबह 8:37 बजे से 11:22 बजे तक दिखाई देगा और ये अमेरिका, दक्षिण पूर्व यूरोप और अफ्रीका में देखा जा सकेगा।


इससे अगला ग्रहण 30 नवंबर 2020 को चंद्र ग्रहण के रूप में होगा। ये दोपहर 1:02  बजे शाम 5: 23 बजे तक प्रभावी रहेगा और भारत, अमेरिका, प्रशांत महासागर, एशिया और आस्ट्रेलिया में दिखाई देगा।


इस साल के अंत में 14 दिसंबर 2020 को सूर्यग्रहण रहेगा जो कि शाम 7:03 बजे से 15 दिसंबर को 12 बजे तक रहेगा और ये सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखेगा।


क्या होता है ग्रहण?


ग्रहण एक खगोलीय घटना है। एक ग्रह या उपग्रह के बीच दूसरे ग्रह के आने से ग्रहण की स्थिति बनती है। चंद्र ग्रहण में चंद्रमा पृथ्वी की प्रच्छाया में आ जाता है। सूर्य ग्रहण में चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के मध्य से गुजरता है।


ज्योतिषधाम की ज्योतिषाचार्य ऋचा पाठक की ग्रहण और उससे बाजार पर होने वाले असर  पर राय


ज्योतिषधाम की ज्योतिषाचार्य ऋचा पाठक ने ग्रहण के बाजार पर असर के बारे में कहा है कि बाजार पर उनकी राय किसी विशेष स्टॉक के लिए नहीं होगी बल्कि चुनिंदा सेक्टर के ब्लू-चिप स्टॉक्स पर नजर रखनी चाहिए। इसके अलावा किसी भी स्टॉक में निवेश करने से पहले उन्हें जरूरी एहतियात बरतना चाहिए।


ऋचा ने कहा कि आने वाले 2 वित्तीय वर्षों में Banking & Financial, FMCG, IT, Education, Pharma और Realty सेक्टर फोकस में रहेंगे।


Argha Martand के ज्योतिषाचार्य देवेंद्र चतुर्वेदी की ग्रहण और उससे बाजार पर होने वाले असर  पर राय


Argha Martand के ज्योतिषाचार्य देवेंद्र चतुर्वेदी ने कहा कि 11 मई से शनि वक्री हैं और शनि 29 सितंबर तक वक्री रहेंगे। गुरु 14 मई से फिलहाल वक्री हैं। गुरु 13 सितंबर को मार्गी होंगे। इनके वक्री अवस्था में आर्थिक, समाजिक परस्थितियों में अस्थिरता रहती है। उस समय बाजार में उतार-चढ़ाव के संकेत दिखाई देंगे। सोना, चांदी, कॉपर की कीमतों में वृद्धि संभव है।


इसके बाद 6 अप्रैल 2021 को गुरु कुंभ राशि में जाएंगे। ये स्थिति भारत के संदर्भ में बेहतर साबित होगी। इसके बाद दुनिया में भारत की अहम भूमिका हो सकती है।


फिर 22 मई को बुध और शुक्र साथ आएं तो बाजार में तेजी की स्थिति बनी है। नई ऊंचाई की स्थिति 29 सितंबर के बाद संभव है। वहीं गुरु शनि के मार्गी होने से बाजार का सेंटीमेंट सुधरेगा। इसके बाद 24 से 29 सितंबर के बीच बाचार में नई ऊंचाई बन सकती है।


बाजार में निवेश के लिहाज से देवेंद्र चतुर्वेदी ने कहा कि से मंगल से प्रभावित सेक्टर में तेजी संभव है। इसलिए मेटल, फार्मा, ग्रामीण इकोनॉमी में तेजी देखने को मिलेगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।