Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

सावधान इंडियाः इन शेयरों को गलती से भी ना खरीदें

प्रकाशित Thu, 13, 2019 पर 15:50  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कहते हैं सावधानी हटी दुर्घटना घटी। निवेशकों के साथ भी आए दिन कई बड़े एक्सीडेंट होते रहते है। निवेशकों के बचाने के लिए ही सीएनबीसी-आवाज़ ने ये खास पहल सावधान इंडिया शुरू की है। जहां ऐसे शेयरों की बात की जायेगी जिनके फंडामेंटल फटे हाल हैं और इनके आसपास भटकना मना है।


रिलायंस कम्यूनिकेशन से रहे सावधान


रिलायंस कम्यूनिकेशन का ऑल टाइम उच्चतम स्तर 845 रुपये है और वर्तमान भाव 1.7 रुपये है। कंपनी पर 3027 करोड़ रुपये का कर्ज है। कंपनी का सालाना घाटा 7206 करोड़ रुपये है। कंपनी में प्रोमोटर हिस्सेदारी का 22 प्रतिशत हिस्सा गिरवी है। 90-100 प्रति शेयर के भाव से हिस्सेदारी गिरवी रखी गई है।


रिलायंस कम्यूनिकेशन का शेयर अपने ऊपरी स्तरों से 99.8 प्रतिशत तक फिसला है। शेयर का रिकॉर्ड स्तर 845 है। कंपनी की ऑपरेटिंग परफॉर्मेंस में लगातार कमजोरी होती गई है। साल 2015 से मार्जिन में गिरावट जारी है।


जेपी एसोसिएट्स से रहें सावधान


जेपी एसोसिएट्स का ऑलटाइम उच्च स्तर 340 रुपये रहा है और वर्तमान भाव 4 रुपये है। कंपनी पर 26,425 करोड़ रुपये का भारी कर्ज है। कंपनी को सालाना 1000 करोड़ रुपये ब्याज का भुगतान करना पड़ता है। कंपनी का सालाना घाटा 2100 करोड़ रुपये है।
जेपी एसोसिएट्स में प्रोमोटर हिस्सेदारी का 20 प्रतिशत हिस्सा गिरवी है। 140 रुपये प्रति शेयर के भाव से हिस्सेदारी गिरवी रखी गई है।


कंपनी का शेयर अपने ऊपरी स्तरों से 98.8 प्रतिशत फिसला है। शेयर का रिकॉर्ड स्तर 340 रुपये है इसलिए ऊपरी स्तरों से गिरने से वैल्युएशन आकर्षक नहीं है। जेपी एसोसिएट्स के ऑपरेटिंग परफॉर्मेंस में लगातार कमजोरी आती गई है। साल 2015 से कंपनी घाटे में आई। 5 साल में कंपनी की बिक्री आधी हुई है।


रिलायंस पावर से रहें सावधान


रिलायंस पावर का लाइफ टाइम उच्च स्तर 413 रुपये है और मौजूदा भाव मात्र 4.5 रुपये है। रिलायंस पावर कर्ज में डूबी हुई है। कंपनी पर 27,029 करोड़ रुपये का कर्ज है। सालाना 3208 करोड़ रुपये ब्याज देती है। कंपनी क सालाना घाटा 2832 करोड़ रुपये है।
रिलायंस पावर में प्रोमोटरों की कुल हिस्सेदारी का 78.72 प्रतिशत हिस्सा गिरवी है। 70-80 रुपये प्रति शेयर के भाव से शेयर गिरवी रखे गये हैं।


RELIANCE POWER में भारी गिरावट देखने को मिली है। यह शेयर ऊपरी स्तरों से 98.9 प्रतिशत फिसला है। रिलायंस पावर में लिस्टिंग के बाद से आय में कमजोरी आई है। 2019 में घाटे में पहुंची है। अधिक ब्याज से दबाव जारी है।


सुजलॉन से रहें सावधान


सुजलॉन का ऑलटाइम उच्च स्तर 413 रुपये है जबकि मौजूदा भाव 4.50 रुपये है। कंपनी पर भारी कर्ज है। कंपनी पर 11,605 करोड़ रुपये का कर्ज है। सालाना 1270 करोड़ का ब्याज भुगतान करना पड़ता है। कंपनी को सालाना घाटा 1570 करोड़ रुपये हो रहा है।


कंपनी में प्रमोटर की कुल हिस्सेदारी का 76.34 प्रतिशत हिस्सा गिरवी है। 105 से 110 रुपये प्रति शेयर के भाव से शेयर गिरवी रखे गये हैं। कंपनी के पिछले 7 से 8 साल से नतीजों में गिरावट जारी है। 2017 से कंपनी ऑपरेटिंग घाटे में पहुंची है।