Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

इन कंपनियों पर है कम कर्ज और रखती हैं अधिक कैश, जहां आप करेंगे कमाई की ऐश

बाजार में जिन कंपनियों के पास कैश है उन्हीं की ऐश है।
अपडेटेड Jan 18, 2020 पर 13:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार में जिन कंपनियों के पास कैश है उन्हीं की ऐश है। कैश रिच कंपनियां सबको पसंद आती हैं। ये कंपनियां कई मायनों में सुरक्षित मानी जाती हैं। लेकिन निवेश करते समय सिर्फ नकदी ही नहीं देखी जाती है, बल्कि ये भी देखते हैं कि कंपनी पर कितना कर्ज है। अधिक कैश और कम कर्ज वाली कंपनियां बाजार की favourite होती है। इनमें कम जोखिम के साथ अच्छे रिटर्न की गुंजाइश होती है। तभी तो CASH IS KING, जय नकदी दी जैसी कहावतें सुनने को मिलती हैं।


आशीष वर्मा की सुझाई हुई कैश रिच कंपनीः HINDUSTAN ZINC


इस कंपनी पर कोई कर्ज नहीं है। प्रीमियम जिंक, लीड और सिल्वर का कारोबार करती है। देश में चांदी की प्रमुख उत्पादक कंपनी है। इस कंपनी का FY20 तक 1.2mtpa क्षमता विस्तार का लक्ष्य है और FY22 तक 1.35mtpa क्षमता विस्तार का लक्ष्य है। इस कंपनी की बहुत ही मजबूत financial profile है और इसके पास 2.75 करोड़ डॉलर कैश है तथा कंपनी पर कोई कर्ज नहीं है। HINDUSTAN ZINC में प्रोमोटर के पास 65 प्रतिशत हिस्सेदारी, सरकार के पास 29.54 प्रतिशत हिस्सेदारी और LIC के पास 1.97 प्रतिशत हिस्सेदारी है।


प्रदीप पंड्या की सुझाई हुई कैश रिच कंपनीः JAGRAN PRAKASHAN


इसका मार्केट कैप 1950 करोड़ रुपये है। इस पर कोई कर्ज नहीं है। कंपनी अपने मुनाफे का 30 से 40 प्रतिशत डिविडेंड पर खर्च करती है। इसका डिविडेंड यील्ड 5.5 प्रतिशत और PE 5.9X TTM है। इसका शेयर 2 साल में ऊंचाई से 70 प्रतिशत फिसला है। कंपनी की 101 करोड़ रुपये की बायबैक की योजना भी है।


सुमित मल्होत्रा की सुझाई हुई कैश रिच कंपनीः VST INDUSTRIES


यह करीब 90 साल पुरानी कंपनी है। यह सिगरेट, तंबाकू कारोबार में शामिल है। इसके वॉल्यूम ग्रोथ में लगातार सुधार जारी है। इस कंपनी की मजबूत ब्रांड वैल्यू है। RK DAMANI की कंपनी में 28 प्रतिशत हिस्सेदारी है जो कि गैर प्रोमोटर में सबसे बड़ी हिस्सेदारी है। कंपनी की आय में सिगरेट का 79.8 प्रतिशत और तंबाकू का 20.20 प्रतिशत हिस्सा है।


वरुण दुबे की सुझाई हुई कैश रिच कंपनीः DR. LAL PATHLABS


यह कंपनी Diagnosis और हेल्थकेयर कारोबार में है। इसका कारोबार श्रीलंका, बांग्लादेश, सऊदी अरब, UAE तक फैला हुआ है। पूरे भारत में इसके पास 200 clinical labs हैं। अगले 5 साल में हेल्थेयर सेक्टर में 13-15 प्रतिशत CAGR ग्रोथ संभव है। इसके पास Cash & Cash equivalent 112.5 करोड़ रुपये है।


दीपाली राणा की सुझाई हुई कैश रिच कंपनीः NAVIN FLUORINE


यह Mafatlal Group की कंपनी है। इसका PE 32.34, Industry PE  34.19, EPS 33 और मार्केट कैप 5500 करोड़ रुपये है। दिसंबर 2019 तक FIIS के पास 18 प्रतिशत हिस्सेदारी थी। 3 तिमाहियों में से इसमें लगातार होल्डिंग्स बढ़ाई जा रही है। MFs की इसमें 15.41 प्रतिशत हिस्सेदारी और Smallcap World fund की 6.5 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कंपनी पर कोई कर्ज नहीं और इसके पास 250 करोड़ रुपये कैश है। कंपनी की दाहेज और देवास में यूनिट हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।