Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में इन शेयरों से होगा बंपर मुनाफा

ब्रोकरेज फर्म का कहना है कि शेयर बाजार के लिए जो रिस्क नजर आ रहे हैं उनमें से ज्यादातर ग्लोबल हैं।
अपडेटेड May 24, 2019 पर 12:51  |  स्रोत : Moneycontrol.com

नरेंद्र मोदी सरकार प्रचंड बहुमत के साथ दूसरी बार सरकार बनाने के लिए तैयार है। नतीजों के दिन सेंसेक्स ने 40,000 का ऐतिहासिक आंकड़ा छू लिया। वहीं निफ्टी ने भी तेजी का रिकॉर्ड बनाया।


नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद सबसे आक्रामक अनुमान ग्लोबल इनवेस्टमेंट बैंक मॉर्गन स्टैनली ने लगाया है। मॉर्गन स्टैनली का मानना है कि S&P BSE सेंसेक्स अगले साल जून तक 45,000 का आंकड़ा छू लेगा। इस दौरान निफ्टी 13500 तक पहुंच सकती है। मौजूदा लेवल से ये अनुमान करीब 10 फीसदी ज्यादा हैं।


मॉर्गन स्टैनली का मानना है कि मोदी सरकार का फोकस ग्रोथ बढ़ाने पर होगा। इसमें RBI को भी मदद करनी होगी। स्टैनली ने यह भी कहा, हमने 20 जून के लिए BSE सेंसेक्स का टारगेट 45,000 और निफ्टी का 13,500 तय किया है।


ब्रोकरेज फर्म का कहना है कि शेयर बाजार के लिए जो रिस्क नजर आ रहे हैं उनमें से ज्यादातर ग्लोबल हैं। इनमें क्रूड प्राइस, यूएस फेडरल बैंक के रेट और ट्रेड वॉर से होने वाली मुश्किलें हैं।


जानकारों का कहना है कि निवेशक 3-5 साल के लिए उन सेक्टर में निवेश कर सकते हैं जिनमें पॉलिसी चेंज की उम्मीद हो। जानकारों का कहना है कि नरेंद्र मोदी सरकार के सामने कुछ चुनौतियां हैं। इनमें कंजम्पशन घटना, फिस्कल डेफेसिट और वैश्विक अनिश्चितताएं हैं।


इन सेक्टर्स पर रहेगा फोकस


BNP पारिबा म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर (इक्विटीज) कार्तिकराज लक्ष्मणन ने कहा कि हम फाइनेंशियल्स और कंजम्प्शन को लेकर उत्साहित हैं। पिछले दो दशक में बैंकिंग सेक्टर में स्ट्रक्चरल ट्रेंड नजर आया है। 3 से 5 साल के लिए बैंकिंग सेक्टर में निवेश किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट बैंकों को आसान लोन और रिटेल क्रेडिट साइकिल पर फोकस फायदेमंद होगा।


लक्ष्मणन इंश्योरेंस सेक्टर को लेकर भी उत्साहित हैं. टर्म इंश्योरेंस बिजनेस के पैठ बढ़ाने से बीमा कारोबार बढ़ा है।


इन शेयरों में निवेश से बनेगी बात 


कैपिटलएम के हेड ऑफ रिसर्च रमेश तिवारी का कहना है कि निफ्टी अगर 11,800 के करीब पहुंचा तो 12,000 का आंकड़ा छू सकता है। इंफ्रास्ट्रक्चर और बैंकिंग सेक्टर में निवेश से फायदा हो सकता है। उन्होंने कहा कि वे DLF, यस बैंक और इंडसइंड बैंक को लेकर उत्साहित हैं।


इंडियानिवेश सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च हेड धर्मेश कांत का कहना है कि वे अपने एसेट अलॉकेशन का बड़ा हिस्सा शेयरों में लगाएंगे। लॉन्ग टर्म में रियल GDP की ग्रोथ 7-8 फीसदी रह सकती है। उन्होंने कहा कि सरकारी बैंकों, इंफ्रा, NBFC और FMCG सेक्टर से काफी फायदा होगा।


कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के फंडामेंटल रिसर्च के हेड विवेक रंजन मिश्रा का कहना है कि बैंक, कैपिटल गुड्स और ऑटो सेक्टर से बेहतर रिटर्न मिलेगा। इसके अलावा रियल एस्टेट, सीमेंट और मेटल्स से भी मुनाफा मिल सकता है।