Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

PM द्वारा घोषित सबसे बड़े राहत पैकेज पर क्या है दिग्गज Brokerages Houses की राय

मोदी ने पूरे देश के विभिन्न सेक्टर्स को संजीवनी देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की जो कि देश की जीडीपी का 10 प्रतिशत है।
अपडेटेड May 13, 2020 पर 14:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मंगलवार की रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया है। इसमें उन्होंने कोरोना से लड़ने के लिए देश के नागरिकों के अब तक के योगदान पर चर्चा की और आने वाले समय में इस महामारी से लड़ने के लिए अन्य उपाय योजनाओं पर भी प्रकाश डाला।


कल रात के उनके संबोधन में सबसे बड़ी बात वह निकलकर आई जिसका पूरे देश सहित उद्योग जगत को बेसब्री से इंतजार था। प्रधानमंत्री ने सबके इंतजार को खत्म करते हुए सबसे बड़े राहत पैकेज की घोषणा की। मोदी ने पूरे देश के विभिन्न सेक्टर्स को संजीवनी देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की जो कि देश की जीडीपी का 10 प्रतिशत है।


इसके बाद आज से देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस मेगा राहत पैकेज के बारे में विस्तार से देश को जानकारी देंगी। वित्त मंत्री द्वारा बताया जायेगा कि किस सेक्टर को कितनी राहत मिलने वाली है। उद्योग जगत ने इस राहत पैकेज की वजह से राहत की सांस ली है।


सीएनबीसी-आवाज़ पर रोजाना बड़े और दिग्गज ब्रोकरेज हाउसेज के निवेश टिप्स प्रस्तुत करते हैं जिससे आपको शेयरों पर निवेश करने की सटीक सलाह प्राप्त होती है। कल घोषित हुए इस सबसे बड़े राहत पैकेज पर जानते हैं क्या है दिग्गज ब्रोकरेज हाउसेस की राय-


CLSA ने ECO PACKAGE पर कहा है कि SMEs को टैक्स राहत मिल सकती है। इसमें मैन्युफैक्चरिंग और निवेश बढ़ाने पर फोकस होगा। वहीं इस साल 1.50 प्रतिशत रेट कट की उम्मीद है।


JEFFERIES ने ECO PACKAGE पर राय दी है कि ये पैकेज काफी बड़ा है। इससे MSMEs और एग्री सेक्टर को सपोर्ट मिलेगा।


JPMORGAN ने ECO PACKAGE पर कहा है कि ये पैकेज उम्मीद से बड़ा है इसलिए अब इसके डिटेल्स का इंतजार है। इसमें लैंड, लेबर, लिक्विडिटी और लॉ पर फोकस किया गया है।


GOLDMAN SACHS ने ECO PACKAGE पर राय दी है कि सरकार ने उम्मीद से ज्यादा बड़े पैकेज का एलान किया है। इसमें लैंड और लेबर रिफॉर्म पर सरकार का फोकस दिखाई दे रहा है। वहीं निवेश बढ़ाने पर सरकार जोर दे रही है।


UBS ने ECO PACKAGE पर कहा है कि भारत के पास ग्लोबल एक्सपोर्ट में हिस्सा बढ़ाने का मौका है। SME/MSMEs फाइनेंसिंग के लिए पैकेज में बड़ा हिस्सा होने की उम्मीद है।


CITI ने ECO PACKAGE पर राय देते हुए कहा कि ये बाजार की उम्मीद से ज्यादा बड़ा पैकेज है। इस पैकेज से GDP पर 3 से 4 प्रतिशत का वित्तीय असर संभव है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।