Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

मेंस अंडरवियर इंडेक्स की क्या है कहानी, क्या आपको पता है उल्टा बॉन्ड यील्ड का क्या है चक्कर?

मंदी के चलते इन दिनों अंडरवियर इंडेक्स की भी बातें हो रही हैं। आखिर ये माजरा क्या है आइए जानते हैं।
अपडेटेड Aug 18, 2019 पर 13:29  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार में यूं तो हम रोज शेयर बाजार की बातें करते हैं। लेकिन आज अंदाज थोड़ा अलग है। बाजार में इन दिनों हर तरफ मंदी की गूंज है। पिछले कुछ दिनों से तो बॉन्ड यील्ड के उलटे कर्व की बात खूब हो रही है। यही नहीं इन दिनों अंडरवियर इंडेक्स की भी बातें हो रही हैं। आखिर ये माजरा क्या है। आज यहां इन्हीं मुद्दों पर हो रही है गप-शप के साथ मुनाफे वाली बात। इस खास चर्चा में साथ दे रहे हैं जियोजित फाइनेंशियल के सीनियर प्रेसिडेंट गौरांग शाह।


बॉन्ड यील्ड से मंदी के संकेत


अमेरिका के बॉन्ड यील्ड से मंदी के संकेत मिल रहे हैं। Inverted Yield curve यानी उल्टे यील्ड कर्व की स्थिति बन गई है। 10 साल के बांड का रेट 2 साल के बांड से कम हो गया है। इससे अमेरिका में बड़ी आर्थिक मंदी के संकेत मिल रहे हैं। 2007 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है। 50 सालों में US में हर बड़ी मंदी के पहले यील्ड कर्व उल्टा हुआ है। 50 सालों में सिर्फ एक बार ये इंडिकेटर गलत साबित हुआ है। बता दें कि अमेरिकी फेड 10 साल और 3 महीने की यील्ड देखता है।


ऑटो सेक्टर की हालत खस्ता


जुलाई में ऑटो सेक्टर में 19 साल में सबसे कम बिक्री देखने को मिली है। Maruti ने लगातार छठे महीने उत्पादन घटाया है। Maruti ने प्रोडक्शन 25.15 फीसदी घटाया । M&M भी Q2 में 8-14 दिन के लिए उत्पादन घटाएगा। Tata Motors ने भी उत्पादन में कटौती का एलान किया है। उत्पादन कटौती का असर एनसिलरी कंपनियों पर भी देखने को मिल रहा है। Bosch, Jamna Auto ने भी उत्पादन कटौती का एलान किया है। Bosch ने तमिलनाडु प्लांट 5 दिन के लिए बंद कर दिया है।


Mens Underwear Index के संकेत


Mens Underwear Index भी इकोनॉमी में सुस्ती का संकेत दे रहा है। ये बिक्री पर दबाव दिखा रहा है। बता दें कि Mens Underwear Index 1970 के दशक में शुरू हुआ था।  US Federal Reserve के  चेयरमैन रहे ग्रीन्सपैन ने इस इंडेक्स की शुरुआत की थी।


इंडस्ट्री को मिलेगी राहत?


इस बीच देश में इंडस्ट्री को राहत की खबरें भी आ रही हैं। सूत्रों के मुताबिक FM ने PM मोदी से गुरुवार को मुलाकात की है। निर्मला सीतारामन ने पीएम को हाल की बैठकों के बारे में बताया है। पिछले दिनों FM कई इंडस्ट्रीज के प्रतिनिधियों से मिली थीं। FM ने PM को ऑटो और रियल्टी सेक्टर के बारे में बताया है और बिक्री में लगातार सुस्ती की जानकारी दी है। FM ने FPIs की चिंताओं के बारे में भी PM को बताया है। FM और PM के बीच जल्दी ही और बैठकों की उम्मीद है।


जल जीवन मिशन का भी ऐलान किया गया है जिसके तहत 2024 तक हर घर में पेय जल पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। इस योजना के तहत पाइपलाइन बिछाने में रकम का ज्यादा हिस्सा खर्च होगा। इस पर सरकार 3.5 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी। खर्च का बोझ केंद्र और राज्यों पर 50:50 होगा। इस योजना से पाइप बनाने वाली और Water Treatment करने वाली कंपनियों को फायदा होगा।


गौरांग शाह की निवेश सलाह


Finolex Ind: खरीदें, लक्ष्य - 630 रुपये


Bajaj Auto: खरीदें, लक्ष्य - 3,200 रुपये


Maruti: खरीदें, लक्ष्य - 7,500 रुपये


Ashok Layland: खरीदें, लक्ष्य - 125 रुपये