Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

लंबे वीकेंड से पहले क्यों फिसला बाजार, कहां करें खरीदारी

हाउसिंग सेक्टर में अगर सरकार की 50 फीसदी योजनाएं भी सफल होती है तो इस सेक्टर के लिए काफी फायदेमंद हो सकती है।
अपडेटेड Jun 23, 2017 पर 16:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

लंबे वीकेंड से पहले घरेलू बाजारों में आज मुनाफावसूली देखने को मिली है। सेंसेक्स और निफ्टी 0.5 फीसदी तक गिरकर बंद हुए हैं। आज के कारोबार में निफ्टी ने 9565.3 तक गोता लगाया, तो सेंसेक्स 31110.4 तक टूटा। अंत में निफ्टी 9580 के आसपास बंद हुआ है, जबकि सेंसेक्स 31150 के नीचे ही बंद हुआ है।

आनंद राठी सिक्योरिटीज के सिद्धार्थ सेडानी का कहना है कि हाउसिंग सेक्टर में अगर सरकार की 50 फीसदी योजनाएं भी सफल होती है तो इस सेक्टर के लिए काफी फायदेमंद हो सकती है। हालांकि यह बात भी सहीं है कि इस सेक्टर की अधिकतर कंपनियां वैल्यूएशन के लिहाज से अपने फंडामेटल से काफी आगे चल रही है। लेकिन दूसरे घरेलू बैंक चाहे वह पीएसयू या प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर में हाउसिंग फाइनेंस लोन की दरें जो कम की है उससे हाउसिंग सेक्टर के लिए कोई बड़ी चुनौती नजर नहीं आती। लिहाजा भले ही इस सेक्टर में मौजूदा समय के लिए करेक्शन देखने को मिल रही है लेकिन इनमें से निकलने की सलाह नहीं होगी।


कैन फिन होम्स कंपनी में फंडामेटल के लिहाज से काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे है। हालांकि वैल्यूएशन के लिहाज यह थोड़ा मंहगा है। लिहाजा पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस, दीवान हाउसिंग फाइनेंस में बने रहने और खरीदारी करने की सलाह होगी।


जिस प्रकार से रिलायंस कम्यूनिकेशंस कंपनी पर कर्ज है उसे डिस्काउंट कर पाना मुश्किल है। कंपनी की जिस तरह से तनावपूर्ण बैलेंसशीट है उस देखकर इस कंपनी में किसी तरह भी दावं नहीं लगाने की सलाह होगी। हालांकि ट्रेडिंग के लिहाज से इसमें खरीदारी की जा सकती है लेकिन फंडामेटल लिहाज से इसमें खरीदारी ना करें। 


ट्रेडबुल्स ग्रुप के चीफ इन्वेस्टमेंट ऑफिसर राजेन शाह का कहना है कि  तेजी के माहौल के बाद बाजार में हल्की सी करेक्शन आना स्वभाविक है। बाजार को जीएसटी और सामान्य मॉनसून से सहारा मिलेगा। लेकिन मिडकैप सेक्टर में मौजूदा स्तर से 8-10 फीसदी तक की गिरावट संभव है। हालांकि बाजार में अगले 5 साल तक तेजी की उम्मीद है। लेकिन छोटी अवधि में बाजार में सतर्क रहने की सलाह होगी। लिहाजा बाजार में उन स्टॉक्स में निवेश करें जिनमें रिस्क कम और रिटर्न अधिक बनें। पेज इंडस्ट्रीज, एचयूल औऱ कोलगेट में तेजी की उम्मीद है। एचटी मीडिया जैसे स्टॉक्स में निवेश करने की सलाह होगी।


हाउसिंग फाइनेंस सेक्टर में मौजूदा स्तर से 10-15 फीसदी तक का करेक्शन देखने को मिल सकता है। वहीं एमएंडएम फाइनेंस में मौजूदा स्तर से लंबी अवधि का नजरिया रख खरीदारी की जा सकती है क्योंकि यह आनेवाले 5 सालों में बेहतर रिटर्न दे सकते है। लिहाजा इसमें 320 रुपये के निचले स्तर से खरीदारी की जा सकती है।


इक्विटीरश के कुणाल सरावगी का कहना है कि लंबी अवधि के चार्ट पैटर्न के लिहाज से एचडीएफसी, एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस में किसी तरह का कोई इपेक्ट नहीं देखने को मिला है। बीते कुछ सालों औऱ महीनों से एचडीएफसी लगातार तेजी देखने को मिली है। हालांकि शॉर्ट टर्म में जरुर इनमें थोड़ा करेक्शन देखने को मिल रहा है। लिहाजा इन दोनों ही स्टॉक्स में गिरावट में खरीदारी करने की राय होगी।


बीते कुछ समय़ से पहले आईटीसी में अच्छा ब्रेकआउट देखने को मिला है। इसमें 300 रुपये के स्टॉपलॉस के साथ 345-350 रुपये के लक्ष्य के लिए खरीदारी की जा सकती है। वहीं कोलगेट में भी 1110 रुपये के ऊपरी स्तर पर अच्छी तेजी देखने को मिली है और आनेवाले समय  में 1150-1160 रुपये के स्तर देखने को मिल सकती है। लिहाजा मौजूदा निवेशक इन दोनों ही स्टॉक्स में बने रह सकते है।