Moneycontrol » समाचार » टैक्स

आपके काम की है ये बात, जानें टैक्सपेयर्स की जेब पर कितना होगा असर

प्रकाशित Thu, 11, 2019 पर 13:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

धन्यवाद टैक्सपेयर्स। चाहे अंतरिम बजट रहा हो या 5 जुलाई का फुल बजट, मोदी सरकार टैक्सपेयर्स का धन्यवाद करना नहीं भूली लेकिन सवाल यह उठता है कि इस धन्यवाद के अलावा देश के टैक्सपेयर्स को क्या मिला? देश के करीब 6.50 करोड़ रिटर्न फाइल करने वाले टैक्सपेयर्स को? बजट गुरु टैक्स में आज इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए हमारे साथ मौजूद हैं टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल।


टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल का कहना है कि अंतरिम बजट में टैक्सपेयर्स के लिए बड़े एलान किए गए थे। 5 लाख रुपये तक की आय पर सेक्शन 87A के तहत छूट दी गई थी। साथ ही स्टैंडर्ड डिडक्शन को बढ़ाकर 50000 रुपये किया गया। टैक्स रियायतों से सरकार पर 22700 करोड़ रुपये का बोझ बढ़ा है। सरकार इस बजट में इज ऑफ लिविंग जरिए बदलाव लाएंगे।


NPS यानि नेशनल पेंशन सिस्टम को बजट में बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण एलान किया गया है। पहले की तुलना में अब इसमें निवेश करना ज्यादा फायदेमंद है। मैच्योरिटी के बाद अब 60% राशि withdraw खर सकते है। अब तक केवल 40% राशि ही टैक्स फ्री निकाल सकते थे। NPS अब पूरी तरह Exempt की कैटगरी में आ चुका है। NPS के तहत 50000 की अतिरिक्त छूट मिलती है। इम्प्लॉयर के 100% योगदान पर कोई भी टैक्स नहीं लगेगा। केंद्रीय कर्मचारियों के लिए सरकार ने 10% की बजाय 14% योगदान करेगी।


बजट में इंश्योरेंस से मिलनेवाली रकम पर 5% टीडीएस कटेगा। टीडीएस सिर्फ इंश्योरेंस से हुए फायदे पर देना होगा। मैच्योरिटी में से प्रीमियम निकाल कर बाकि बची रकम पर टीडीएस लगेगा। पहले इंश्योरेंस से मिलने वाली कुल रकम पर 1% टीडीएस कटता था। सेक्शन 194DA के तहत अब सिर्फ इनकम पर टैक्स लगेगा।


सरकार की ओर से होम बायर्स को सेक्शन 80EEA के तहत राहत मिलेगी। 45 लाख रुपये तक के घर पर लिए होम लोन पर फायदा मिलेगा। होम लोन के ब्याज पर 3.5 लाख तक की टैक्स छूट मिलेगी। पहले ब्याज पर सालाना 2 लाख रुपये तक की टैक्स छूट थी।