Moneycontrol » समाचार » टैक्स

ITR-1 में टैक्स डिडक्शन को ऐसे समझें, बचा सकते हैं पैसा

टैक्स डिटेल्स को आप 5 सेक्शन देखकर समझ सकते हैं
अपडेटेड Jul 18, 2019 पर 12:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

इनकम टैक्स रिटर्न भरने के दौरान आपके लिए सबसे बड़ी मुश्किल चौथे टैब में आती है। यह टैब टैक्स डिटेल्स का होता है। इनकम टैक्स कम्प्यूटेशन के बाद यह महत्वपूर्ण सेक्शन है जिसे भरते हुए सावधानी बरतने की जरूरत होती है। इस सेक्शन में वे सभी टैक्स दिखते हैं जो काटे जाते हैं या आप खुद सरकार को जमा करते हैं।


आपके 26AS फॉर्म से ऑनलाइन सारी जानकारियां ITR-1 में आ जाती हैं। हालांकि अगर आप एक्सेल फाइल के जरिए रिटर्न फाइल कर रहे हैं तो ये डिटेल्स आपको खुद भरने होंगे।


टैक्स डिटेल्स देखते हुए आपको इन पांच चीजों की डिटेल देखनी चाहिए।


सैलरी से कटने वाले TDS का ब्योरा


आपकी सैलरी से काटे गए टैक्स का ब्योरा इस सेक्शन में नजर आएगा। इसमें TAN, कंपनी का नाम और इनकम का ब्रेकअप होगा। आपके इस सेक्शन में कितनी रकम भरी है यह आप 26AS फॉर्म से मिलाकर चेक कर सकते हैं।


अदर इनकम पर कटने वाले TDS का ब्योरा


टैक्स डिटेल्स टैब के दूसरे सेक्शन में अदर इनकम पर काटे गए TDS का ब्योरा होता है। अगर आपको FD या ट्यूशन पढ़ाकर कोई आमदनी होती है तो उस पर कटने वाले TDS की जानकारी इस सेक्शन में होती है।


मान लीजिए FD से आपको 10,000 रुपए से ज्यादा ब्याज मिला तो उस पर कटने वाला TDS इसी सेक्शन में नजर आएगा. अगर 26AS और TDS सर्टिफिकेट नंबर मैच नहीं कर रहे तो आपको TDS काटने वाले से बात करना चाहिए।


किराए पर कटने वाला TDS


अगर फिस्कल ईयर 2018-19 में 50,000 रुपए या इससे ज्यादा का मंथली किराया मिलता है किराएदार को TDS काटना चाहिए। इसका ब्योरा आपको टैक्स डिटेल्स के शिड्यूल 3 में मिलेगा। आपको अपने किराएदार से 16C फॉर्म मांगना चाहिए ताकि आपको TDS का पूरा ब्योरा मिल सके। 


27D के तहत कटने वाला टैक्स


यह टैक्स सेलर काटता है। अगर आप 10 लाख रुपए से महंगी गाड़ी खरीदते हैं तो विक्रेता TCS (टैक्स कलेक्टेड ऐट सोर्स) काटता है। कार विक्रेता कीमत का 1 फीसदी TCS कलेक्ट करता है। इस टैक्स कलेक्शन पर विक्रेता आपको 27D जारी करता है।


एडवांस टैक्स


अगर आपने सेल्फ असेसमेंट के बाद एडवांस टैक्स चुकाया है तो यह टैब के सबसे अंतिम शिड्यूल में नजर आएगा। यह डिटेल भी आपको 26AS में मिल जाएगा।


इन सबके बाद आप अपना टैक्स कैलकुलेट कर सकते हैं।