Moneycontrol » समाचार » टैक्स

नए या पुराने टैक्स सिस्टम में नहीं कर पा रहे हैं चुनाव तो कट सकता है ज्यादा TDS

मुकेश पटेल का कहना है कि सेक्शन 192 के तहत नियम साफ है कि एम्प्लॉई की सैलरी पर TDS काटने की जिम्मेदारी कंपनी की होती है।
अपडेटेड Mar 08, 2020 पर 11:54  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इनकम टैक्स बचाने का हो टेंशन या फिर जीएसटी के पेचींदे नियमों की हो उलझन, अटका हो रिफंड या फिर मुश्किल में फंसा हो रिटर्न। हर मुश्किल सवाल का आसान जवाब है टैक्स गुरु। जहां पर ना केवल टैक्सपेयर्स अपने टैक्स की बचत करता है बल्कि टैक्स गुरु आपको टैक्स के उलझनों को सुलझाने के गुर भी सिखाते है। टैक्स से जुड़ी उलझनों को सुलझाने के लिए हमारे साथ मौजूद है टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल।


नए टैक्स सिस्टम या पुराने टैक्स सिस्टम का चुनाव करना हो इस बात की जानकरी साल के शुरु में ही अपने एम्प्लॉयर को बताएं वरना हो सकता है कि आपका ज्यादा TDS कट जाए। मुकेश पटेल का कहना है कि सेक्शन 192 के तहत नियम साफ है कि एम्प्लॉई की सैलरी पर TDS काटने की जिम्मेदारी कंपनी की होती है। IT डिक्लेरेशन के जरिए कर्मचारी कंपनी को निवेश की पूरी जानकारी देता है।


मुकेश पटेल का कहना है कि सरकार ने नौकरीपेशा को टैक्स भरने के दो विकल्प दिए है। जिस टैक्स सिस्टम को चुनें उसकी जानकारी एम्प्लॉयर को दें। नए टैक्स सिस्टम को चुनने पर सारी टैक्स छूट खत्म हो जाएगी। सेक्शन 80C, स्टैंडर्ड डिडक्शन, 80D जैसी कई टैक्स छूट खत्म हुई है। 


माता-पिता की देखभाल पर मिलेगी टैक्स छूट


पिता के इलाज पर हुए खर्चे को क्लेम किया जा सकता है। सेक्शन 80D के तहत 50,000 रुपये तक की टैक्स छूट ले सकते है। पिता के इलाज पर खर्च अपने बैंक अकाउंट से करें।


नया टैक्स सिस्टम: कैपिटल और बिजनेस लॉस


पुराने इनकट टैक्स सिस्टम में बिजनेस इनकम हो या शेयर म्यूचुअल फंड से होने वाले लॉन्ग टर्मं या शॉर्ट टर्म कैपिटल लॉस को आसानी से कैरी फॉरवर्ड और सेटऑफ किया जा सकता है लेकिन क्या नया टैक्स सिस्टम में भी ये प्रावधान है या नहीं? इस पर मुकेश पटेल का कहना है कि नए इनकम टैक्स सिस्टम में लॉन्ग टर्म या श़ॉर्ट टर्म कैपिटल लॉस को कैरी फॉरवर्ड या सेटऑप कर सकते है।


हालांकि सेक्शन 32 और 35AD के तहत बिजनेस में हुए अतिरिक्त डेप्रिसिएशन और निवेश पर हुए नुकसान पर छूट नहीं है। सेक्शन 32 और 35AD को छोड़कर अन्य बिजनेस लॉस को नए टैक्स सिस्टम में एडजस्ट कर सकते है।  


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।