Moneycontrol » समाचार » टैक्स

Income Tax return 2019: 1 रुपए के टैक्स डिमांड की अनदेखी पड़ेगी भारी

टैक्स रिटर्न में की गई लापरवाही आपको बड़ा चूना लगा सकती हैं, इन सावधानियों का रखें खास खयाल
अपडेटेड May 07, 2019 पर 12:36  |  स्रोत : Moneycontrol.com

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को जब यह लगता है कि आपने रिटर्न फाइल करने में कुछ फर्जीवाड़ा किया है। या फिर असेसमेंट ITR में दिए इनकम डिक्लेयरेशन से अलग है तो टैक्स डिपार्टमेंट नोटिस भेजता है। कई बार इनकम टैक्स की तरफ से 1 रुपए से लेकर 99 रुपए तक का नोटिस आता है। यह रकम छोटी भले ही है लेकिन आप इसकी अनदेखी नहीं कर सकते। आपको इनका सेटलमेंट करना जरूरी है। इनकम टैक्स की धारा 143-1 के तहत 100 रुपए से कम के नोटिस को आप अपने रिफंड से भी एडजस्ट कर सकते हैं। यहां हम आपको तीन तरह के हालात के बारे में बता रहे हैं।


डिमांड नोटिस सही हो तो क्या करें?


इनकम टैक्स का नोटिस अगर सही है तो भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को वैलिड प्रूफ के जरिए यह बताना होगा कि इसकी वजह क्या है। नोटिस में दी गई रकम के ऑनलाइन पेमेंट के बाद चालान नोटिफिकेशन नंबर, BSR कोड, पेमेंट की तारीख, चालान का सीरियल नंबर और अमाउंट की जानकारी विभाग को देनी होगी ताकि इसमें बदलाव हो सके। अगर आप टैक्स चुकाने के बाद ये जानकारियां शेयर नहीं करते तो आपके टैक्स का सेटलमेंट नहीं होगा। अगर अपीलीय कोर्ट के जरिए डिमांड आपके खाते से कट गया है लेकिन टैक्स विभाग के पास अपडेटेड आंकड़े नहीं है तो आपको ऑर्डर की तारीख के साथ अपीलीय अथॉरिटी की तरफ से पास ऑर्डर इनकम टैक्स विभाग को देना होगा।
अगर आप रिवाइज्ड रिटर्न भरते हैं तो आपको ई-फाइलिंग एकनॉलेजमेंट नंबर, फाइलिंग टाइप, रिमार्क्स, TDS सर्टिफिकेट, चालान कॉपी, रेक्टिफिकेशन के लिए रीक्वेस्ट कॉपी और इनडेमिनिटी बॉन्ड की जानकारी देनी होगी जहां असेसिंग ऑफिसर रेक्टिफिकेशन करेगा।


अगर आप डिमांड से सहमत नहीं हैं


ऐसे हालात में आपको यह साफ बताना होगा कि कितना अमाउंट सही है और कितना गलत। इसके साथ ही आपको वैलिड प्रूफ देना होगा। अगर आप डिमांड से पूरी तरह सहमत नहीं हैं तो आप डिस्एग्रीमेंट का विकल्प चुन सकते हैं लेकिन इसके साथ ही आपको वैलिड प्रूफ देना होगा। एकबात ध्यान रखें कि एकबार डिमांड मान लेने के बाद आप इसे खारिज नहीं कर सकते हैं।


इनकम टैक्स की तरफ से आपको टैक्स नोटिस आया है और आपको मिला नहीं। अगर किसी वजह से मेल या पोस्ट नहीं मिल पाया तो आप खुद चेक कर सकते हैं कि आपको कितने का नोटिस आया है।


सबसे पहले ई फाइलिंग पोर्टल पर जाएं। अपने पैनकार्ड के जरिए अकाउंट में लॉगइन करें। इसके बाद ई-फाइल पर क्लिक करे और Respond to Outstanding Tax Demand को चुनें। इसमें नोटिफिकेशन नंबर, डिमांड करने की तारीख, असेसमेंट ईयर, बकाया रकम या रिसिवेबल्स, रेक्टिफिकेशन राइट्स और रेसपॉन्स नजर आएगा। इन सूचनाओं को देखने के बाद आप अपना रेसपॉन्स सबमिट कर सकते हैं।


अगर टैक्स डिमांड 100 रुपए से कम है तो यह आपके अगले ITR फाइलिंग में एडजस्ट कर सकते हैं। लेकिन टैक्स डिमांड 100 रुपए से ज्यादा है तो नोटिस के 30 दिनों के भीतर आपको अपने सबमिशन के साथ जवाब देना होगा।


इसलिए अगर आपके पास भी 1 रुपए से लेकर 99 रुपए तक का टैक्स नोटिस आता है तो उसकी अनदेखी ना करें बल्कि सेटलमेंट करें।