Moneycontrol » समाचार » टैक्स

ITR Filling: इन बदलावों को जान लीजिए नहीं तो मुश्किल में पड़ जाएंगे

प्रकाशित Mon, 24, 2019 पर 16:47  |  स्रोत : Moneycontrol.com

इस साल आपको Form 16 सही वक्त पर नहीं मिलेगा। जब कंपनी अपने कर्मचारियों को दी गई सैलरी पर TDS काटती है तो उसे वह रकम सरकार को जमा करना पड़ता है। इसके साथ ही वह Form 24Q भी सबमिट करता है। हाल ही में 24Q और Form 16 का फॉरमैट बदल गया है। इसी के साथ ही सरकार ने 24Q फॉर्म जमा करने की तारीख भी बदल दी है।


पहले यह फॉर्म जमा करने की तारीख 31 मई थी जिसे बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। इसके साथ ही Form 16 जारी करने की तारीख भी 25 दिन बढ़ा दी गई है। पहले इसकी तारीख 15 जून थी जिसे बढ़ाकर 10 जुलाई कर दिया गया है। इस वजह से करदाताओं को रिटर्न फाइल करने के लिए सिर्फ 20 दिन का वक्त मिलेगा।


सेक्शन 80GGA में नया टैब


इस साल ITR-1 फॉर्म में एक नया सेक्शन  80GGA जोड़ दिया गया है। अगर आपने साइंटिफिक रिसर्च या रूरल डेवलपमेंट के लिए कोई चंदा दिया है तो इनकम टैक्स में छूट लेने के लिए पूरी जानकारी देनी होगी। मिंट के मुताबिक, आपने जिसे दान दिया है उसका पूरा नाम और पते की जानकारी देनी होगी। इसके साथ ही उसका पैन कार्ड और दान की रकम और कितनी रकम पर छूट मिल सकती है-सबका ब्योरा देना होगा। कई बार ऐसा होता है कि टैक्सपेयर्स बिना दान दिए ही छूट क्लेम कर लेते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।


टैक्स रिफंड का नियम


इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने फैसला किया है कि अब टैक्स रिफंड सिर्फ उन्हीं अकाउंट में होगा जो पैन कार्ड से लिंक होंगे। अब ई-रिफंड सिर्फ उसी अकाउंट में होगा जो ऑनलाइन पोर्टल पर वैरिफाइड होंगे और पैन से लिंक होंगे। इससे कामकाज में पारदर्शिता आएगी।