Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु से सीखें टैक्स प्लानिंग के अनोखे टिप्स

टैक्स की देनदारी को कम कर सकते है अगर आपकी टैक्स प्लानिंग है परफेक्ट।
अपडेटेड Apr 26, 2017 पर 18:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जब आप पैसे कमाते है तो उस पैसे पर आपको टैक्स भी देना होता है लेकिन आप इस टैक्स की देनदारी को कम कर सकते है अगर आपकी टैक्स प्लानिंग है परफेक्ट। टैक्स गुरु में हमारा फोकस है टैक्स प्लानिंग की टिप्स और साथ ही उन सवालों के जवाब टैक्स से जुड़ी आपकी हर उलझन को दूर कर सकें। आज आपके टैक्स से जुड़े मुश्किल सवालों का जवाब देंगे सक्षम टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल।


टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल का कहना है कि परिवार में एक से ज्यादा सदस्य टैक्सपेयर्स हों तो ज्यादा टैक्स बचा सकते हैं। 80सी में मिलनेवाली छूट का फायदा हर सदस्य को हो ऐसी प्लानिंग करें जिसके लिए परिवार का मुखिया वित्त वर्ष की शुरुआत में ही टैक्स प्लानिंग कर लें। आपस में तय करें कि इंश्योरेंस प्रीमियम कौन देगा या पीपीएफ का निवेश कौन करेगा। साथ ही पहले ही तय कर लें कि ट्यूशन फीस परिवार का कौन सा सदस्य देगा और कोशिश करें कि एक जैसा निवेश या खर्च हर सदस्य ना कर रहा हो। हालांकि टैक्स छूट में 80डी को भी ना भूलें क्योंकि इसके तहत 25,000 रुपये व्यक्तिगत छूट सीमा दी जाती है।


मुकेश पटेल के मुताबिक 25,000 रुपये से ज्यादा प्रीमियम देते है तो परिवार के दूसरे सदस्यों या एचयूएफ में बांट दें। 80डी के तहत माता- पिता के हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम भी दें। माता-पिता के हेल्थ इंश्योरेंस पर 30000 की छूट मिलती है। 


सवालः अगर किसी की सालाना आय टैक्स रिज्मशन लिमिट से कम है लेकिन उस पर टीडीएस कट जाता है और इस वजह से उन्हें टैक्स रिफंड के लिए टैक्स रिटर्न फाइल करना होता है। क्या ऐसे में उपाय है जिसके तहत टीडीएस कट ना कटें?


मुकेश पटेलः अगर टैक्स छूट सीमा से ज्यादा आय हो तो फार्म  15जी/15एच नहीं भर सकते हैं। हालांकि सेक्शन 197 के तहत टीडीएस अथॉरिटी को फॉर्म 13 भरकर दे सकते है। साथ ही इनकम टैक्श ऑफिसर से कम दर पर टीडीएस कटौती का सर्टिफिकेट लें। कम टीडीएस कटेगा तो रिफंड के झंझट से बच सकते है।


सवालः पेंशन के साथ- साथ बैंक एफडी के ब्याज से आय होती है, क्या हर तिमाही एडवांस टैक्स चुकाना होगा। साथ ही क्या वरिष्ठ नागरिकों को सेक्शन 80सी और 80डी के अलावा कन्वेयंस अलाउंस जैसी छूट मिलती है?


मुकेश पटेलः सीनियर सिटीजन को एडवांस टैक्स भरने की जरुरत नहीं है बशर्ते आय बिजनेस या प्रोफेशन से ना हो। सीनियर सिटीजन सेल्फ एसेसमेंट टैक्स भऱ सकते हैं। 80टीटीए के तहत 10,000 की छूट मिल सकती है। हालांकि  कन्वेयंस अलाउंस का फायदा आपको नहीं मिल सकते हैं।