Moneycontrol » समाचार » टैक्स

जानें इस दिवाली कैसे बचेगा आपका टैक्स

प्रकाशित Sat, 14, 2017 पर 16:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दिवाली अपने साथ दीयो की रोशनी, मिठाईय़ों की मिठास और ढ़ेर सारी खूशियां लाती है। इन सब के बीच लक्ष्मी पूजन में सभी की कामना यही रहती है कि लक्ष्मी आपसे खूश होकर सीधा आपके बटूवे में आया या बैंक अकाउंट में पहुंच जाएं। लेकिन आपके खराब टैक्स प्लानिंग के कारण यहीं लक्ष्मी घर से बाहर जाती है तो बहुत बुरा लगता है। इसलिए कीजिए नए साल की शुरुआत टैक्स गुरु के साथ टैक्स बचाते है।


ऐसे ही मौकों पर टैक्स गुरू अपनी जानकारी और अनुभव का खजाना लेकर आते हैं और करते हैं टैक्स से जुड़ी मुश्किलों को दूर। इस रोशनी का उजाला टैक्स की लाइब्लिटी के वजह से फीकी ना हो इसलिए टैक्स गुरु इस दिवाली आपके लिए टैक्स से जुड़े मुश्किल सवालों का जवाब देंगे टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली।


टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली का कहना है कि रंगोली की तरह रंग बिरंगा सेक्शन 80 सी। यह टैक्स बचाने के लिए 1.5 लाख रुपये तक निवेश का विकल्प देता है। पीपीएफ, पीएफ और इंश्योरेंस के जरिए बचत कीजिए। होम लोम का प्रिसिंपल रीपेमेंट भी 80सी में ही आता है। उन्होंने आगे कहा कि सेक्शन 80 सी के तहत 2 बच्चों की ट्यूशन फीस पर भी टैक्स छूट मिलती है। साथ ही घर खऱीदने पर चुकाई गई स्टैंप ड्यूटी पर भी छूट मिलता है।


शरद कोहली ने रोशनी के जरिए चैप्टर 6ए में टैक्स छूट मिल सकती है। इसमें 80 फैमिली की सारी छूट मिलती है। 80 सी, 80 डी, 80 जीजी, 80 सीसीडी (1बी), 80 डी और 80 ई शामिल है। 80 डी में हेल्थ इंश्योरेंस और दिव्यागों को भी छूट मिलती है। इसमें 25 हजार से 30 हजार तक छूट मिलती है। 80 जी में दान-पुण्य पर भी छूट मिलती है। 80 सीसीडी (1बी) के तहत 50000 रुपये की अतिरिक्त छूट मिलती है। 80ई में एजुकेशन लोन के ब्याज पर छूट मिलता है।


उन्होंने आगे कहा कि सेक्शन 56(2) के तहत रिश्तेदारों से मिलने वाले गिफ्ट पर भी टैक्स फ्री है। साथ ही दोस्तों से गिफ्ट मिलने पर 50,000 तक की छूट मिलती है। शरद कोहली के मुताबिक सेक्शन 56(2) के तहत गिफ्ट देने पर भी कोई टैक्स नहीं देना होता। लेकिन 50 हजार से ज्यादा गिफ्ट लेने पर 30 फीसदी टैक्स चुकाना होता है।