Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू से सीखें टैक्स बचाने की गुरूमंत्र

प्रकाशित Thu, 04, 2019 पर 12:54  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही आम आदमी ही नहीं जानकार भी घबराने लगते हैं। कारण है कि आयकर कानूनों में इतने सारे पेंच है कि किसी के लिए भी इन्हें समझना टेढ़ी खीर साबित हो सकती है। इनकम टैक्स भरने का समय करीब आ रहा है जरुरी है कि आप इनसे जुड़े नियमों में बदलाव को जाने और समझें। ऐसे ही मौकों पर टैक्स गुरू अपनी जानकारी और अनुभव का खजाना लेकर आते हैं और करते हैं टैक्स से जुड़ी मुश्किलों को दूर। आज आपके टैक्स से जुड़े मुश्किल सवालों का जवाब देंगी टैक्स एक्सपर्ट प्रीति खुराना।


इस वित्तीय वर्ष में जो नई चीजें टैक्स के साथ जुड़ी हैं वह यह है कि अब 5 लाख रुपये की आय तक टैक्स नहीं लगेगा। इस विषय पर प्रीति खुराना ने कहा कि वर्ष भर की कुल आय यदि 5 लाख रुपये तक हो तो आपको एक रुपया भी टैक्स नहीं चुकाना होगा। इसके लिए करदाताओं को सेक्शन 80सी का पूरा फायदा उठाना चाहिए। उनको एचआरए की छूट का इस्तेमाल भी करना चाहिए। रीइंबर्समेंट लेने पर भी टैक्सेबल आय कम होगी। हालांकि 5 लाख से ज्यादा आय होने पर टैक्स चुकाना होगा।


प्राति खुराना ने बताया कि दूसरा बड़ा बदलाव यह है कि स्टैंडर्ड डिडक्शन को 40000 से बढ़ाकर 50000 कर दिया गया है। इसलिए बचने वाले 10000 रुपये की निवेश योजना बनाएं। पैन कार्ड को आधार से लिंक करने की समयसीमा 30 सितंबर तक बढ़ा दी गई हैं परंतु यह ध्यान रखें कि रिटर्न फाइल करते समय पैन को आधार से लिंक करना अनिवार्य है।


सवालः पुराने घर की कीमत 10 लाख रुपये है। इसे बेचकर अपने सेविंग अकाउंट में रखकर किराये के मकान में रहकर नई प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हैं। 10 लाख रुपये पर कितना टैक्स चुकाना होगा?


जवाबः  प्रॉपर्टी को कैपिटल एसेट माना जाता है। प्रॉपर्टी की बिक्री पर टैक्स चुकाना होगा। 2 साल से ज्यादा पुरानी प्रॉपर्टी बेचने पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगेगा। हालांकि कुछ वक्त के लिए बचत खाते में पैसे जमा कर सकते हैं। राशि को कैपिटल गेन अकाउंट स्कीम में निवेश करना चाहिए। आईटी कि दिक्कतों से बचने के लिए 31 जुलाई 2019 तक राशि को निवेश करना होगा। रिटर्न में प्रॉपर्टी की बिक्री की जानकारी दीजिये। आईटीआर में कैपिटल गेन अकाउंट स्कीम में निवेश की गई रकम की जानकारी दीजिए।