Moneycontrol » समाचार » टैक्स

नकली इनकम टैक्स नोटिस मिलने की टेंशन करनी हो खत्म तो समझना होगा DIN का फंडा

टैक्स एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही आम आदमी ही नहीं जानकार भी घबराने लगते हैं।
अपडेटेड Oct 11, 2019 पर 12:58  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही आम आदमी ही नहीं जानकार भी घबराने लगते हैं। कारण है कि आयकर कानूनों में इतने सारे पेंच है कि किसी के लिए भी इन्हें समझना टेढ़ी खीर साबित हो सकती है।


इनकम टैक्स भरने का समय करीब आ रहा है जरुरी है कि आप इनसे जुड़े नियमों में बदलाव को जाने और समझें। ऐसे ही मौकों पर टैक्स गुरू अपनी जानकारी और अनुभव का खजाना लेकर आते हैं और करते हैं टैक्स से जुड़ी मुश्किलों को दूर।


DIN से कैसे होगी नकली नोटिस की टेंशन खत्म


अब किसी जालसाज के लिए इनकम टैक्स के नाम पर धोखाधड़ी करना आसान नहीं होगा क्योंकि अब टैक्सपेयर्स आसानी से ये पहचान सकते है कि कौन सा ई-मेल या चिट्ठी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से भेजी गई है या फिर कौन सा नोटिस नकली है। दरअसल इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने एक नई व्यवस्था शुरु की है जिसके तहत डिपार्टमेंट से होने वाले हर कम्यूनिकेशंस पर एक यूनिक नंबर होगा। जिसे DIN (डॉक्यूमेंट आइडेंटिफिकेशन नंबर) कहते है। आखिर DIN क्या है और ये कैसे काम करेगा इस पर विस्तार से बात करते हुए टैक्स एक्सपर्ट प्रीति खुराना का कहना है कि DIN के जरिए असली और नकली नोटिस की पहचान हो सकेगी।


उन्होंने आगे कहा कि इनकम टैक्स विभाग की ओर से DIN जारी होगा। नोटिस, समन या ऑर्डर पर होगा। टैक्स विभाग से हर कम्यूनिकेशन पर DIN होगा।


DIN नंबर की कैसे हो पहचान


DIN की असली है या नकली, इसकी पहचान करना आसान है। इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट पर लॉग- इन करना होगा। उसके बाद वेबसाइट पर DIN को डालना होगा। आपको PAN की भी जानकारी देनी होगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।