Moneycontrol » समाचार » टैक्स

योर मनीः टैक्स सेविंग निवेश में कमाई के मौके

प्रकाशित Wed, 19, 2018 पर 14:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अकसर टैक्स बचाने के लिए किए गए निवेश को हम आर्थिक लक्ष्यों से नही जोडते या कई बार, बस उसी को निवेश समझकर आगे कोई रणनीति नही बनाते। टैक्स बचाने के लिए निवेश करना जरूरी है, लेकिन यहां भी आपको कहां कमाई का मौका मिल सकता है, कैसे एन मौके पर टैक्स बचत निवेश करते समय आपसे भूल हो सकती है और कैसे एक गलत निवेश आपकी मेहनत की कमाई पर सेंध लगा सकता है, योर मनी का फोकस इसी बात पर हैं, जिसमें हमारा साथ देने के लिए मौजूद हैं फाइनेंशियल प्लानर बलवंत जैन।


बलवंत जैन का कहना है कि 80सी के तहत अधिकतम टैक्स छूट 150,000 रुपये तक मिलती है। 80सीसीडी के तहत एनपीएस के लिए 50000 की अतिरिक्त छूट मिलती है। निवेश के विकल्प के तौर पर लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम, नॉन कम्युटेबल डेफेर्ड एन्युटी, पीपीएफ, रिटायरमेंट फंड, एनएससी, सुकन्या समृद्धि योजना,  यूलिप, नोटिफाइड एन्युटी प्लान, म्युचुअल फंड, यूटीई यूनिट, पेंशन फंड, होम लोन अकाउंट स्कीम, हाउसिंग बोर्ड की स्कीम, होम लोन प्रिंसिपल, ट्यूशन फीस, इंफ्रा इक्विटी और बॉन्ड, 5 साल का फिक्स डिपॉजिट, सीनियर सिटिजन स्कीम, पोस्ट ऑफिस की 5 साल की एफडी पर टैक्स बचत की छूट मिलती है।


वहीं टैक्स छूट का ईएलएसएस सबसे अच्छा विकल्प है। ईएलएसएस में लिक्विडिटी और पारदर्शिता होती है। ईएलएसएस में 3 साल का लॉक इन पीरियड होता है। ईएलएसएस में सबसे कम लॉक इन पीरियड होता है। ईएलएसएस के तहत सेक्शन 80 सी में 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर टैक्स बचत भी होती है।


ईएलएसएस में एकमुश्त या एसआईपी के जरिए निवेश संभव है। ईएलएसएस में मिला डिविडेंड भी टैक्स फ्री होता है। सैलरी क्लास के लिए ग्रोथ निवेश विकल्प चुनना बेहतर होगा। पोर्टफोलियो में 5 से 6 ईएलएसएस फंड में निवेश करने की सलाह होगी।