Moneycontrol » समाचार » टैक्स

रिटर्न भरते वक्त किन बातों का रखें ध्यान

प्रकाशित Fri, 20, 2018 पर 09:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इनकम टैक्स रिटर्न भरने की डेडलाइन नजदीक आ रही है, योर मनी पर आज हम आपको बताएंगे कि रिटर्न भरते वक्त ध्यान देने वाली 10 जरूरी बातें कौन कौन सी हैं। आईटीआर का नया फॉर्म सहज भरने को लेकर अगर आपकी भी कोई कंफ्यूजन है तो इसे दूर करने में हम करेंगे आपकी मदद और इसमें हमारा साथ देंने के लिए मौजूद हैं फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या।


अर्णव पंड्या का कहना है कि आईटीआर भरते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरुरी है। रिटर्न फॉर्म में हर इनकम को शामिल करें। सेक्शन 80C के सभी निवेश शामिल करें। आईटीआर फाइल करते वक्त  मेडिकल इंश्योरेंस पेमेंट की जानकारी भरें। सेविंग खाते से 10,000 तक ब्याज कमाई पर छूट लें। दान या डोनेशन की रकम का सही ब्यौरा दें। क्लेम किए हर डिडक्शन का प्रूफ रखें। टीडीएस क्लेम एएस 26 फॉर्म से मेल खाना चाहिए। टैक्स-फ्री आय का भी ब्यौरा दें। टीडीएस कटौती पूरा टैक्स देने के बराबर नहीं है। आईटीआर में  छोटी से छोटी आय बताएं।


सवालः आय का जरिया केवल सैलरी है। हर साल टैक्स भरते है, आईटीआर1 में हुए बदलावों पर कंफ्यूजन दूर करें।सैलरी, अलाउंस नए फॉर्म में कैसे भरें?


अर्णव पंड्याः फॉर्म में कुल कमाई दिखानी होगी। पीपीएफ से कमाई टैक्स फ्री है। अलाउंस के बिना सैलरी को 40 फीसदी, अलाउंस 50 फीसदी और नेट सैलरी 90 फीसदी से जानकारी दें। सैलरी और प्रॉपर्टी से कमाई की जानकारी दें। आईटीआर फाइल करने में देरी पर जुर्माना लगता है।