Moneycontrol » समाचार » अमेरिकी बाजार

Coinbase नैस्डेक पर हुआ लिस्ट, Stockal के विनय भारद्वाज ने बताया भारतीय इंवेस्टर कैसे करें निवेश

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Coinbase अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज में आज लिस्ट हो गया, इसी के साथ क्वाइनबेस पहला क्रिप्टो एक्सचेंज बन गया जो NASDAQ पर लिस्ट हुआ
अपडेटेड Apr 15, 2021 पर 20:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्वाइनबेस (Coinbase) अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज (US Stock Exchange) में लिस्ट हो गया है। इसी के साथ Coinbase पहला क्रिप्टो एक्सचेंज बन गया जो NASDAQ पर लिस्ट हुआ है। Coinbase के शेयर 381 डॉलर पर लिस्ट हुए और देखते ही देखते 429 डॉलर प्रति शेयर पर पहुंच गए, जिससे क्वाइनबेस का वैल्यूएशन 100 बिलियन डॉलर को पार कर गया।

लेकिन इसके बाद Coinbase के शेयर की कामतों में गिरावट आनी शुरू हुई और यह लिस्टिंग डे पर अपने इश्यू प्राइस से 14% गिरकर 328 डॉलर पर बंद हुआ। इस वजह से कंपनी का वैल्यूएशन भी गिरकर 91 बिलियन पर आ गया। ग्लोबल ब्रोकरेज फर्म Stockal के को-फाउंडर विनय भारद्वाज (Vinay Bharathwaj) ने Moneycontrol को दिए इंटरव्यू में बताया कि भारतीय इंवेस्टर्स की तरफ से क्वाइनबेस के IPO की जबरदस्त डिमांड है।

आपको बता दें कि Stockal भारतीय इंवेस्टर्स सहित दुनियाभर के निवेशकों को एक ही अकाउंट से अमेरिकी बाजारों सहित ग्लोबल ऐसेट्स में निवेश करने की सुविधा देती है। विनय भारद्वाज ने कहा कि Snowflake और Airbnb के IPO की तरह ही हम क्वाइनबेस की लिस्टिंग के लिए अपने सपोर्ट रिक्वेस्ट में 30 से 40% की उछाल देख रहे हैं।

विनय भारद्वाज ने कहा कि भारतीय रेगुलेटर्स क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने पर रोक लगाते हैं। लेकिन क्वाइसबेस की लिस्टिंग से भारतीय इंवेस्टर्स को भी क्वाइनबेस के स्टॉक्स का इनडायरेक्ट एक्सपोजर मिलेगा। विनय भारद्वाज ने कहा कि क्वाइनबेस की लिस्टिंग ने वॉल स्ट्रील की विरासत में एक और सुनहरा चैप्टर जोड़ा है। इससे लीगल इंवेस्टर्स और क्रिप्टोकरेंसी के बीच की दूरियां कम होंगी।

भारतीय निवेशक कैसे करें निवेश

भारतीय निवेशक Stockal के प्लेटफॉर्म Stockal.com पर जाकर Coinbase में इंवेस्ट कर सकते हैं। विनय भारद्वाज ने कहा कि कोई भी इंडियन इंवेस्टर Stockal पर अकाउंट ओपन करके अपने अकाउंट में पैसे डालकर Coinbase सहित किसी भी ग्लोबल स्टॉक या ऐसेट में इंवेस्ट कर सकते हैं।

Stockal की स्थापना विनय भारद्वाज ने सीतास्व श्रीवास्तव (Sitashwa Srivastava) के साथ मीलकर 2016 में की थी। भारत में इसे अगस्त 2019 में लॉन्च किया गया। कंपनी का हेडक्वार्टर न्यूयॉर्क में है। भारत में बेंगलुरु में इसका ऑफिस है।

विनय भारद्वाज ने कहा, चूंकि क्रिप्टोकरेंसी का नेटर Volatile यानी उठापटक वाला है, ऐसे में शुरुआत में क्रिप्टोकरेंसी के प्रदर्शन पर Coinbase के स्टॉक्स की कीमतों में उतार-चढ़ाव आ सकता है। लेकिन एक बार जब सबकुछ सेटल हो जाएगा तब क्वाइनबेस के अपने परफॉर्मेंस के आधार पर ही कंपनी का वैल्यूएशन होगा। उन्होंने कहा कि शॉर्ट और मिड टर्म में मुनाफा कमाने की चाहत रखने वालों को लिए यह अच्छा इंवेस्टमेंट ऑप्शन है।

ऐसा है क्वाइनबेस का बैलेंसशीट

वर्ष 2021 की पहली तिमाही में कंपनी टोटल रेवेन्यू 1.8 बिलियन डॉलर रहा, वहीं कंपनी के नेट इनकम 800 मिलियन डॉलर रहा। Coinbase के पास 5.6 करोड़ वेरिफाइड यूजर हैं। कंपनी को इस तिमाही जितना रेवेन्यू मिला है, उतना राजस्व पिछले 2 साल मिलकार नहीं था।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।