Moneycontrol » समाचार » आपका पैसा

अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं? एक बार ये जरूर पढ़ लें

अपना बिजनेस शुरू करने से पहले कुछ बातें हैं, जिनपर आपको सोच-विचार कर लेनी चाहिए।
अपडेटेड Jun 25, 2019 पर 13:13  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अपना बिजनेस चलाने का थ्रिल और सुकून अलग चीज होती है, जो नौकरी करने में नहीं मिल सकती। सही बात तो ये है कि जो लोग बिजनेस करना चाहते हैं, उनकी कभी नौकरी में जमती भी नहीं।


लेकिन बिजनेस शुरू करने के सपने देखना और उसकी बारीकियों को समझना दो अलग चीजें हैं। अपना बिजनेस शुरू करने से पहले कुछ बातें हैं, जिनपर आपको सोच-विचार कर लेनी चाहिए। इन बातों को ध्यान में रखकर कुछ भी शुरू करें तो आपके पास एक सॉलिड प्लान भी होगा और आप अपने बिजनेस को एक अच्छी शुरुआत भी दे पाएंगे।


बिजनेस क्या है?


सबसे पहली और बेसिक बात- आपको अपने बिजनेस का पूरा खाका पता होना चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि आप क्या करना चाहते हैं। आपका प्रॉडक्ट या सर्विस क्या होगी, आपका टारगेट कस्टमर क्या होगा, आपकी यूनीक सेलिंग और वैल्यू क्या होगा। जब आपके दिमाग में सबकुछ क्लियर होगा तो आप इसे अच्छे से हकीकत में भी बदल पाएंगे।


बिजनेस प्लान क्या है?


अपने बिजनेस का पूरा प्लान तैयार करिए। प्रॉडक्ट, सर्विस या कस्टमर को डिफाइन करने के बाद अपने बिजनेस के एडमिनिस्ट्रेशन, मार्केटिंग, सेलिंग और स्टाफिंग पर ध्यान दीजिए। ये सबकुछ बहुत स्पष्ट और एक निश्चित अवधि में पूरा करने लायक होना चाहिए।


नियम क्या हैं?


समझिए कि आपका बिजनेस किस कानून के तहत आता है, इस पर क्या नियम लागू होते हैं या आपको किन कानूनों का पालन करना होगा। आप अपने बिजनेस का जितना एक्सपैंडेड रखेंगे, आपको उतने नियम-कानूनों का पालन करना होगा।


स्टार्ट अप की लागत क्या है?


बिजनेस शुरू कर रहे हैं तो जाहिर आपको इसमें पहले पूंजी लगानी होगी। ऊपर के सारे प्वॉइंट्स का खाका तैयार करने के बाद आपको इसका अनुमान हो जाना चाहिए कि आपको बिजनेस शुरू करने में आपको कितना शुरुआती खर्चा उठाना होगा। आपको अपने बिजनेस में तब तक पैसा लगाना होगा जब तक आपका कस्टमर न बन जाए और रेगुलर कैश फ्लो होने लगे। जाहिर है, इसमें वक्त लगेगा तो बिजनेस के स्टेबल होने तक आपको इसमें पैसे लगाने होंगे, इस माइंडसेट के लिए तैयार हों तो आप अपना बिजनेस शुरू कर सकते हैं।


प्रोग्रेस क्या है?


बिजनेस शुरू करने के बाद अपने एक्शन्स और आस-पास के माहौल पर नजर रखें। देखें कि आप की कोशिशें ज़ाया तो नहीं हो रही। कुछ भी सॉलिड दिखने में टाइम लगेगा, उसे लेकर परेशान न हों लेकिन ये देखते रहें कि आप सही दिशा में जा रहे हैं या नहीं। या फिर आपका प्लान हकीकत में सही डायरेक्शन में जा रहा है या नहीं। इसके लिए कोशिश करते रहें।