Moneycontrol » समाचार » आपका पैसा

सुकन्या समृद्धि योजना, PPF और KVP में किसमें मिल रहा बेहतर रिटर्न, जानिए ब्याज दरें

सुकन्या समृद्धि योजना में 7.6 फीसदी ब्याज मिल रही है
अपडेटेड Feb 01, 2021 पर 08:43  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Small Savings Schemes: कोरोना वाायरस के चलते पूरी दुनिया में आर्थिक सुस्ती छाई हुई है। ऐसे में कई लोग बेहतर रिटर्न की तलाश में रहते हैं। ताकि निवेश करने पर अच्छी कमाई हो। ऐसे में आप स्मॉल सेविंग्स अकाउंट में निवे  करके बेहतर रिटर्न हासिल कर सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना (SSY), किसान विकास पत्र (KVP), RD और PPF समेत पोस्ट ऑफिस की कई स्कीमों में आपको बेहतर रिटर्न मिल सकता है। पोस्ट ऑफिस की स्कीम में खासियत ये है कि यहां किसी तरह का जोखिम नहीं रहता है और रिटर्न भी शानदार मिलता है। जानिए किस स्कीम में कितनी है ब्याज दर...


सुकन्या समृद्धि योजना


इस योजना में बेटियों के नाम से निवेश किया जा सकता है। इस स्कीम में 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिल सकता है। पहले इसमें 8.4 फीसदी ब्याज था। इस स्कीम में साल भर में 1.5 लाख रुपये तक निवेश किया जा सकता है। इसमें इनकम टैक्स एकट 80C के तहत छूट भी मिलती है। इसमें 10 साल तक की उम्र की बेटी के नाम से निवेश कर सकते हैं।


पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund - PPF)


इस स्कीम में 7.10 फीसदी ब्याज मिल रही है। इसमें सालाना 500 रुपये से लेकर 1,50,000 रुपये तक निवेश कर सकते हैं। इसकी मेच्योरिटी लिमिट 15 साल है। इसमें इनकम टैक्स में छूट का लाभ भी मिलता है।


किसान विकास पत्र (KVP)


किसान विकास पत्र में कम से कम 1000 रुपए से अकाउंट खुलावाया जा सकता है। इस स्कीम में 6.9 फीसदी ब्याज मिल रही है। 2.5 साल में आप इस स्कीम में निवेश को निकाल सकते हैं। किसान विकास पत्र में यह वादा किया जाता है कि यह आप निवेश 10 साल 4 महीनों यानी 124 महीनों में डबल कर देगा।


सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम (SCSS)


बुजुर्गों के लिए चलने वाली इस स्कीम में साल भर में कम से कम 1,000 रुपये से लेकर निवेश कर सकते हैं। इस स्कीम को 5 साल के लिए लिया जा सकता है। यानी इसमें आप 5 साल तक के लिे पैसा नहीं निकाल सकते हैं। 7.4 फीसदी ब्याज मिल रही है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।